अब जापान ने ब्रिटेन और इटली के साथ मिलकर लड़ाकू विमान बेचने के लिए खतरनाक जेट बनाया है

जापान लड़ाकू विमान बेचता है: अपने शांतिवादी आदर्शों को तोड़ते हुए जापान अब लड़ाकू विमान भी बेचेगा। जापान की कैबिनेट ने ब्रिटेन और इटली के साथ विकसित किए जा रहे नए लड़ाकू विमानों के निर्यात को मंजूरी दे दी है. नए नियमों के तहत जापान ने हथियारों के निर्यात को आसान बना दिया है, ताकि उन देशों को लड़ाकू विमान बेचे जा सकें जिनके साथ जापान ने रक्षा समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।

बीबीसी के मुताबिक, जापान ने चीन और उत्तर कोरिया के खतरों को देखते हुए 2027 तक अपने सैन्य खर्च को दोगुना करने का वादा किया है। जापानी अधिकारियों ने कहा है कि प्रत्येक लड़ाकू विमान की बिक्री के लिए कैबिनेट की मंजूरी की आवश्यकता होगी। दिसंबर 2022 में, जापान इस नए फाइटर जेट को विकसित करने के लिए यूके-इटली सहयोग में शामिल हुआ। इस समझौते को टेम्पेस्ट नाम दिया गया है, जिसके तहत हाईटेक लड़ाकू विमान बनाए जाएंगे।

जापान रक्षा उपकरण बढ़ा रहा है
यूके और इटली के सहयोग से बनाए जा रहे जेट्स को 2035 तक तैनात किया जा सकता है। जापान ने पहली बार रक्षा उपकरण विकास पर अमेरिका के अलावा किसी अन्य देश के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। यह जानकारी तब सामने आई है जब प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा अप्रैल महीने में अमेरिका के दौरे पर जाने वाले हैं. उम्मीद है कि इस दौरान प्रधानमंत्री अमेरिका के साथ अपनी रक्षा साझेदारी बढ़ाने पर जोर देंगे.

जापान के प्रवक्ता ने क्या कहा?
हाल ही में जापान के प्रधानमंत्री ने कहा था कि टोक्यो की विश्वसनीयता बनाए रखने के लिए तीसरे देशों को युद्धक विमानों के निर्यात की अनुमति देना ‘आवश्यक’ है. सरकार के प्रवक्ता योशिमासा हयाशी ने मंगलवार को कहा, ‘हमारे देश की सुरक्षा के लिए आवश्यक क्षमताओं वाले लड़ाकू विमानों का निर्माण करना जरूरी है, ताकि यह स्पष्ट हो सके कि जापान अपनी सुरक्षा से कोई समझौता नहीं करेगा.’

जापान शांतिवादी आदर्शों को तोड़ रहा है
द्वितीय विश्व युद्ध के बाद, अमेरिका के कब्जे वाले जापान ने एक संविधान अपनाया जिसमें कहा गया कि देश अंतरराष्ट्रीय विवादों को निपटाने के लिए युद्ध और बल के उपयोग का त्याग करता है। इस दौरान हथियारों के निर्यात पर भी प्रतिबंध लगाया गया था, लेकिन 2014 में तत्कालीन प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने प्रतिबंध कम कर दिया. अब जापान ने घातक हथियारों की बिक्री के नियमों को और आसान बना दिया है।

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान में 5 चीनी नागरिकों की हत्या से घबराए शाहबाज शरीफ चीनी दूतावास की ओर भागे और…