अमेरिकी दुःस्वप्न ईरान द्वारा हाइपरसोनिक हथियार में प्रगति के दावे के बाद उत्तर कोरिया ने हाइपरसोनिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया

उत्तर कोरिया ने लॉन्च की हाइपरसोनिक मिसाइल: अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच रिश्ते सामान्य नहीं हैं. दोनों देशों के बीच तनाव का माहौल है. हालांकि, इस बीच उत्तर कोरिया ने हाइपरसोनिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया है. इसके बाद अमेरिका के लिए खतरे की घंटी बज गई है, क्योंकि ईरान ने पहले दावा किया था कि उसने भी हाइपरसोनिक मिसाइल में सफलता हासिल कर ली है.

यूरेशियन टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर कोरिया ने 14 जनवरी को एक ठोस ईंधन हाइपरसोनिक मिसाइल का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया, जो उसके हथियार कार्यक्रम में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। दक्षिण कोरियाई और जापानी सेनाओं ने मामले की पुष्टि करते हुए कहा कि दक्षिण कोरिया ने अपने समुद्र तट से हाइपरसोनिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया है.

दुनिया के कई देश प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं
उत्तर कोरिया ने प्योंगयांग के पास मध्यम दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल लॉन्च की थी. उन्होंने 12 मिनट से भी कम समय लेते हुए मिसाइल लॉन्च की। हाल के दिनों में उत्तर कोरिया को हथियार कार्यक्रम के तहत दो सफलताएं हासिल हुई हैं. उत्तर कोरिया की सॉलिड-फ्यूल हाइपरसोनिक मिसाइल की एक खासियत है और वो ये कि ये बाकी मिसाइलों के मुकाबले कम समय में हमला कर सकती है.

हाइपरसोनिक हथियारों और फ्रैक्शनल ऑर्बिटल बॉम्बार्डमेंट सिस्टम (एफओबीएस) की दौड़ में आज कई देश आगे निकलने की होड़ में हैं। इसी क्रम में उत्तर कोरिया ठोस ईंधन रॉकेट बूस्टर का उपयोग करके मध्यम दूरी की हाइपरसोनिक बैलिस्टिक मिसाइलें तैयार करने में सक्रिय है।

हाइपरसोनिक हथियार बनाने में भी ईरान आगे है
हाल के दिनों में मध्य पूर्व का देश ईरान भी हाइपरसोनिक हथियार बनाने में लगा हुआ है. वह अमेरिका को अपना दुश्मन मानता है. इसके पीछे कई बड़े कारण हैं. पहली और ताज़ा वजह है अमेरिका का हमास के ख़िलाफ़ इसराइल को समर्थन. इससे ईरान अमेरिका से नाराज है. वहीं दूसरी ओर अमेरिका भी ईरान को परमाणु बम बनाने से रोकता है.

हालाँकि, इसके बावजूद, ईरान ने पिछले साल अपनी हाइपरसोनिक मिसाइल का अनावरण किया। इसके साथ ही उसने खुद को चीन और रूस समेत उन चुनिंदा देशों के समूह में शामिल कर लिया, जो लंबी दूरी के हथियार तैनात करने में सक्षम हैं।

यह भी पढ़ें: भारत-बांग्लादेश संबंध: मालदीव की राह पर बांग्लादेश, देश की सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी बीएनपी ने शुरू किया ‘इंडिया आउट’ अभियान