अरविंद केजरीवाल पर हिमंत बिस्वा सरमा, स्वाति मालीवा मामला, ओडिशा पर बीजेपी की स्थिति, मुस्लिम आरक्षण पर ममता बनर्जी

ममता बनर्जी पर हिमंत बिस्वा सरमा: लोकसभा चुनाव के बीच असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ओडिशा में बीजेपी की स्थिति और पश्चिम बंगाल सरकार पर जमकर निशाना साधा. एबीपी न्यूज़ से एक्सक्लूसिव बात करते हुए सीएम हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा, “ओडिशा में एक महीने पहले के माहौल और आज के माहौल में बहुत अंतर है. अब सब कुछ बदल गया है. ओडिशा भी मोदीमय हो गया है.”

‘क्या पांडियन के अलावा बीजेडी में कोई और है?’

असम के सीएम ने कहा, “ओडिशा में बीजेडी का 5T कार्यक्रम सिर्फ तमिलनाडु है…बीजद में पांडियन के अलावा और क्या है?” पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी द्वारा ओबीसी सर्टिफिकेट पर हाईकोर्ट के आदेश को मानने से इनकार करने पर उन्होंने कहा, “यह पहले ही कहा जा चुका है कि ओबीसी के नाम पर ममता बनर्जी मुसलमानों को पिछले दरवाजे से प्रवेश दे रही हैं। किसी भी राज्य में ओबीसी की जनगणना होती है, उसके बाद ही सूची तैयार की जाती है, लेकिन बंगाल में मुसलमानों को ध्यान में रखकर सूची तैयार की जा रही है।”

मुसलमानों के लिए पिछले दरवाजे से आरक्षण बंद किया जाएगा

मुस्लिम आरक्षण पर बात करते हुए सीएम हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा, “ममता दीदी ने इसे तुष्टिकरण का हथियार बना लिया है। अगर हमारी सरकार बनती है तो कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में भी मुसलमानों का पिछले दरवाजे से आरक्षण बंद कर दिया जाएगा। अगर ममता बनर्जी की सरकार बनी रही तो सुप्रीम कोर्ट पर भी बयानबाजी करेंगे। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी इसी तरह की टिप्पणी कर रहे हैं। अगर भारतीय गठबंधन सरकार आती है तो वे संस्थाओं को भी नष्ट कर देंगे।”

केजरीवाल अपराधी बनने से बचने के लिए किताब पढ़कर आये।

इस दौरान सीएम हिमंत बिस्वा सरमा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को खराब राजनेता बताया। उन्होंने कहा, “अरविंद केजरीवाल जो राजनेता हैं…आज कोई इतना बुरा राजनेता नहीं है। अरविंद केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने जेल में रामायण, गीता पढ़ी है…उन्होंने कोई गीता नहीं पढ़ी है…क्या? कोई गीता रामायण पढ़कर इतना बुरा काम करता है, उसने खुद को अपराधी होने से बचाने के लिए कोई किताब पढ़ी होगी।”

स्वाति मालीवाल के इंटरव्यू पर बोलते हुए उन्होंने कहा, “जो व्यक्ति पूरी दिल्ली को सीसीटीवी कैमरे देने की बात करता था, वो अपने खुद के ड्राइंग रूम की फुटेज नहीं दे पा रहा है… क्या वो दिल्ली को सुरक्षित रखेगा? महिलाओं की बात करने वाली सुनीता केजरीवाल आज चुप हैं. निर्भया का आंदोलन महिलाओं के अधिकारों के लिए नहीं, बल्कि सत्ता पाने के लिए था. आज केजरीवाल देश के सामने बेनकाब हो गए हैं.”

यह भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव: ‘कैसे मान लें कि जिसने अन्ना हजारे को नहीं छोड़ा, वह दिल्ली की जनता को धोखा नहीं देगा?’, राजनाथ सिंह का अरविंद केजरीवाल पर हमला.