अरुणाचल मुद्दे पर भारत की चीन को कड़ी सलाह, पीएम ने दौरे पर चीन की आपत्ति को सिरे से किया खारिज

छवि स्रोत: फ़ाइल
अरुणाचल मुद्दे पर चीन को भारत की कड़ी सलाह

चीन पर भारत: भारतीय प्रधानमंत्री की हालिया अरुणाचल यात्रा पर चीन की आपत्ति का भारत ने करारा जवाब दिया है. भारत ने चीन को कड़ी सलाह देते हुए उसकी आपत्ति को सिरे से खारिज कर दिया है. उन्होंने पीएम मोदी के हालिया दौरे को लेकर चीन की आपत्ति को सिरे से खारिज करते हुए मंगलवार को कहा कि ‘अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न और अविभाज्य हिस्सा था, है और हमेशा रहेगा.

इस संबंध में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रणधीर जयवसवाल ने कहा कि भारत पहले ही चीन को अपने दृढ़ रुख से अवगत करा चुका है. उन्होंने कहा कि भारतीय नेताओं द्वारा अरुणाचल प्रदेश के ऐसे दौरों या राज्य में भारत की विकास परियोजनाओं पर आपत्ति जताने का कोई औचित्य नहीं है. उन्होंने कहा कि हम पीएम मोदी के अरुणाचल प्रदेश दौरे को लेकर चीनी पक्ष की ओर से की गई टिप्पणियों को खारिज करते हैं.

चीन ने पीएम के हालिया दौरे पर आपत्ति जताई थी

दरअसल, पिछले हफ्ते पीएम मोदी के अरुणाचल दौरे और वहां विकास कार्यों के लिए फंड की घोषणा पर चीन ने सोमवार को विरोध दर्ज कराया था, जिसका भारत ने कड़ा विरोध किया और चीन की आपत्ति को सिरे से खारिज कर दिया. चीन ने यह कहकर इस क्षेत्र पर फिर से अपना दावा जताया था कि भारत के इस कदम से सीमा विवाद जटिल हो जाएगा, जिसे भारत ने खारिज कर दिया.

जानिए भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने क्या कहा?

जयसवाल ने कहा कि ऐसी यात्राओं पर चीन की आपत्ति से यह वास्तविकता नहीं बदलेगी कि अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न और अविभाज्य हिस्सा था, है और हमेशा रहेगा। उन्होंने कहा कि भारत के अन्य राज्यों की तरह भारतीय नेता समय-समय पर अरुणाचल प्रदेश का दौरा करते रहते हैं। ऐसे दौरों या भारत की विकास परियोजनाओं पर आपत्ति उठाना बिल्कुल भी उचित नहीं है। जयसवाल ने कहा कि यह सच है कि इससे यह वास्तविकता नहीं बदलेगी कि अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न और अविभाज्य हिस्सा था, है और हमेशा रहेगा।

चीन को बताया गया भारत का दृढ़ रुख

उन्होंने कहा कि चीनी पक्ष को इस दृढ़ रुख के बारे में कई बार सूचित किया गया है. जयसवाल ने मोदी के अरुणाचल प्रदेश दौरे पर चीन की आपत्ति से जुड़े मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए यह बात कही. चीन अरुणाचल प्रदेश को दक्षिण तिब्बत बताता है। वह नियमित तौर पर भारतीय नेताओं के राज्य दौरे पर आपत्ति जताते रहे हैं।

नवीनतम विश्व समाचार