आइसलैंड में ज्वालामुखी विस्फोट, बड़े इलाके में फैला लावा और धुआं

छवि स्रोत: रॉयटर्स
आइसलैंड में ज्वालामुखी विस्फोट के बाद फैला लावा और धुआं

ओस्लो : दक्षिण-पश्चिमी आइसलैंड के रेक्जेन्स प्रायद्वीप में एक बड़ा ज्वालामुखी विस्फोट हुआ है। इस धमाके से लोगों में दहशत फैल गई है. ज्वालामुखी विस्फोट की यह घटना पिछले कई हफ्तों से चल रही भूकंप की गतिविधियों के बाद हुई है. ज्वालामुखी विस्फोट से बड़े इलाके में लावा और धुआं फैल गया है.

जमीन में 3.5 किमी लंबी दरार

जानकारी के मुताबिक, ज्वालामुखी विस्फोट ग्रिंडाविक शहर के उत्तर में शुरू हुआ। जमीन के नीचे से पिघली हुई चट्टानें निकलने लगीं। ज्वालामुखी से निकल रहा लावा और राख दूर-दूर तक फैल रहा है. बताया जा रहा है कि जमीन के अंदर 3.5 किमी लंबी दरार है, जिससे प्रति सेकंड करीब 100 से 200 क्यूबिक मीटर (3,530 से 7,060 क्यूबिक फीट) लावा निकल रहा है.

भूवैज्ञानिकों ने जताई थी आशंका

आइसलैंड के लोग अभी पिछले कुछ हफ्तों से हो रही लगातार भूकंपीय गतिविधियों के आतंक से उबर भी नहीं पाए थे कि ज्वालामुखी विस्फोट ने एक बार फिर लोगों में डर पैदा कर दिया है। हालांकि, रेक्जेन्स प्रायद्वीप पर इस ज्वालामुखी विस्फोट से पहले ही प्रशासन ने करीब 4 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया था. पिछले कुछ दिनों से इस इलाके में लगातार भूकंपीय गतिविधियां महसूस की जा रही थीं, जिसके बाद भूवैज्ञानिकों ने ज्वालामुखी विस्फोट की आशंका जताई थी.

ग्रिंडाविक शहर को ख़तरा

स्थानीय पुलिस प्रशासन भी अलर्ट पर है. लोगों को इस इलाके में न जाने की चेतावनी जारी की गई है. अधिकारियों ने कहा है कि हाल के वर्षों में रेक्जेन्स प्रायद्वीप के गैर-आबादी वाले इलाकों में कई विस्फोट हुए हैं, लेकिन यह विस्फोट ग्रिंडाविक शहर के लिए खतरा पैदा कर सकता है। यह क्षेत्र पिछले दो महीनों में सैकड़ों भूकंपों से प्रभावित हुआ है लेकिन हाल के हफ्तों में तीव्रता में गिरावट देखी गई है।

नवीनतम विश्व समाचार