आरोपी विभव की बढ़ेंगी मुश्किलें, अब दिल्ली पुलिस जोड़ने की तैयारी में ये नई धारा

स्वाति मालीवाल हमला मामला: स्वाति मालीवाल मामले में एक बड़ी खबर सामने आई है. सूत्रों के मुताबिक पुलिस आरोपी विभव कुमार पर आईपीसी की धारा 201 यानी सबूत नष्ट करने की धारा भी लगा सकती है. पुलिस को शक है कि विभव ने जानबूझ कर अपना मोबाइल फॉर्मेट किया है. मोबाइल को फॉर्मेट करने की टाइमिंग और पुलिस को पासवर्ड न बताने पर सवाल उठ रहे हैं.

सीएम हाउस में लगे सीसीटीवी कैमरों का डीवीआर हासिल करने के लिए पुलिस लगातार पीडब्ल्यूडी से संपर्क में है, लेकिन वहां से भी सहयोग नहीं मिल रहा है. बताया जा रहा है कि सीएम हाउस से सेलेक्टिव और एडिटेड सीसीटीवी और मोबाइल वीडियो वायरल किए जा रहे हैं. पुलिस इस बात पर भी नजर रख रही है कि कहीं ये सब जांच को भटकाने के लिए तो नहीं किया जा रहा है. दिल्ली पुलिस इस मामले में अन्य लोगों की भूमिका की भी जांच कर रही है.

स्वाति मालीवाल ने मारपीट मामले में एफआईआर दर्ज कराई थी.

दिल्ली महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने 13 मई को आरोप लगाया था कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निजी सचिव विभव कुमार ने उनके सरकारी आवास पर उनके साथ दुर्व्यवहार किया था. 16 मई को स्वाति मालीवाल ने विभव कुमार के खिलाफ मारपीट की एफआईआर दर्ज कराई थी. इसके बाद पुलिस ने स्वाति की मेडिकल जांच भी कराई, जिसमें शरीर पर कई जगह चोट के निशान मिले। दिल्ली पुलिस ने 18 मई यानी शनिवार को विभव कुमार को गिरफ्तार किया था.

केजरीवाल ने बीजेपी पर कई आरोप लगाए थे

बता दें कि दिल्ली पुलिस ने शनिवार (18 मई 2024) को दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के निजी सहायक (पीए) बिभव कुमार को गिरफ्तार किया था। इसके बाद शनिवार शाम को वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में केजरीवाल ने बीजेपी और पीएम नरेंद्र मोदी पर कई आरोप लगाए थे. केजरीवाल ने पीएम को आम आदमी पार्टी (AAP) के सभी शीर्ष नेताओं को गिरफ्तार करने की चुनौती दी और कहा कि वे रविवार (19 मई 2024) को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) मुख्यालय तक मार्च करेंगे।

ये भी पढ़ें

‘भीकू म्हात्रे’ ने कांग्रेस के घोषणापत्र को लेकर किया पोस्ट, कर्नाटक पुलिस ने गोवा से किया गिरफ्तार, समर्थन में उतरी बीजेपी