इज़राइल हमास युद्ध लाइव: गाजा में और कितनी तबाही देखेगी दुनिया? दक्षिण अफ़्रीका ने युद्ध समाप्त करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय से अपील की

जेरूसलम. इजराइल और हमास के बीच 7 अक्टूबर से युद्ध जारी है और इसमें हजारों लोगों की जान जा चुकी है. हमास और इजराइल के बीच युद्ध के कारण गाजा पूरी तरह से नष्ट हो चुका है और अभी भी इस युद्ध के खत्म होने के कोई आसार नजर नहीं आ रहे हैं. गाजा की तरह अब राफा में भी खतरा मंडरा रहा है और वहां भी कभी भी तबाही का मंजर देखा जा सकता है. इजराइल और हमास के बीच चल रहे इस युद्ध को रोकने के लिए पूरी दुनिया में कोशिशें तेज हो गई हैं. जगह-जगह विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं और कई देश हस्तक्षेप करने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन अभी तक इस युद्ध के खत्म होने के कोई संकेत नजर नहीं आ रहे हैं. इस बीच, दक्षिण अफ्रीका ने अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है और युद्धविराम आदेश देने का अनुरोध किया है।

अंग्रेजी वेबसाइट अल जजीरा की रिपोर्ट के मुताबिक, दक्षिण अफ्रीका ने इजरायल पर फिलिस्तीनियों के खिलाफ नरसंहार का आरोप लगाया है और ICJ यानी इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस से गुहार लगाई है कि वह इजरायल को राफा पर हमला रोकने और युद्ध खत्म करने का आदेश दे. मालदीव ने भी दक्षिण अफ्रीका के इस कदम का स्वागत किया है. दरअसल, गाजा पर इजराइल के हमले के बाद ही दक्षिण अफ्रीका ने जनवरी में अपना केस दायर किया था. दक्षिणी गाजा पट्टी के शहर राफा पर इजरायली हमले को लेकर दक्षिण अफ्रीका अतिरिक्त आपातकालीन उपायों की मांग कर रहा है।

हमास-इज़राइल युद्ध पर लाइव अपडेट पढ़ें:

-संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष अदालत इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने गुरुवार को गाजा के दक्षिणी शहर राफा में इजरायल के सैन्य अभियान को रोकने के दक्षिण अफ्रीका के अनुरोध पर सुनवाई की और सुनवाई आज यानी शुक्रवार को भी जारी रहेगी। यह चौथी बार है जब दक्षिण अफ्रीका ने अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) से आपातकालीन उपायों का अनुरोध किया है। दक्षिण अफ्रीका ने आईसीजे का दरवाजा खटखटाया है और आरोप लगाया है कि गाजा में हमास के साथ युद्ध में इजरायल की सैन्य कार्रवाई नरसंहार के बराबर है।

इस बीच खबर है कि उत्तरी गाजा में हजारों फिलिस्तीनी नागरिक बिना पानी और भोजन के रहने को मजबूर हैं और इजरायली हमले के बाद दोनों पक्षों को भारी नुकसान हुआ है. इज़राइल की योजना और अधिक सैनिकों को तैनात करने और दक्षिण राफा पर अपने जमीनी हमले को तेज करने की है। वहीं, उत्तरी गाजा पट्टी में जबालिया शरणार्थी शिविर में एक इजरायली टैंक की आकस्मिक गोलाबारी में पांच इजरायली सैनिक मारे गए और सात घायल हो गए। इनमें से तीन की हालत गंभीर है.

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, इजरायली टैंकों ने एक इमारत की खिड़की में बंदूक देखी और उस दिशा में गोलीबारी शुरू कर दी. टैंक चलाने वाले सैनिकों को गलतफहमी हो गई. उन्होंने इमारत में मौजूद इजरायली सैनिकों को हमास के आतंकवादी समझकर उन पर गोलियां चला दीं। इसके चलते पांच जवानों की जान चली गई. सेना ने कहा कि वह इस बात की जांच कर रही है कि जवानों की पहचान करने में गलती कैसे हुई. आईडीएफ के मुताबिक, पिछले साल 7 अक्टूबर को हमास के हमले के बाद से 626 इजरायली सैनिक मारे गए हैं।

गौरतलब है कि युद्ध की शुरुआत पिछले साल 7 अक्टूबर को दक्षिणी इज़राइल में हमास के हमले से हुई थी, जिसमें फिलिस्तीनी आतंकवादियों ने लगभग 1,200 लोगों की हत्या कर दी थी और लगभग 250 लोगों को बंधक बना लिया था. वहीं, गाजा के स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि युद्ध में 35,000 से ज्यादा फिलिस्तीनी मारे गए हैं.

टैग: गाजा, हमास, इजराइल, इज़राइल समाचार