ईरान हेलीकॉप्टर क्रैश, अमेरिका ने नहीं की तलाश इब्राहिम रायसी हेलीकॉप्टर के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने दी जानकारी

ईरान हेलीकाप्टर दुर्घटना: ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रायसी की हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मौत पर अमेरिका ने शोक व्यक्त किया है. इसके साथ ही अमेरिका ने कहा कि ‘इब्राहिम रायसी ईरानी लोगों के उत्पीड़न में एक क्रूर भागीदार रहा है।’ अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने कहा, ‘ईरान नए राष्ट्रपति का चयन कर रहा है। वह मानवाधिकारों और मौलिक स्वतंत्रता के लिए ईरानी लोगों के संघर्ष का समर्थन करते हैं। इस दौरान मैथ्यू मिलर ने यह भी बताया कि रायसी के हेलीकॉप्टर को ढूंढने में अमेरिका ने मदद क्यों नहीं की?

आधिकारिक संवेदनाओं को स्पष्ट करते हुए विदेश विभाग के प्रवक्ता मिलर ने कहा कि अमेरिका ऐसी परिस्थितियों में किसी की मौत नहीं देखना चाहता। मैथ्यू मिलर ने कहा कि ईरान ने रईसी के हेलीकॉप्टर को खोजने में मदद मांगी थी, लेकिन अमेरिका ने ईरान की मांग पूरी नहीं की। मिलर ने कहा कि हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मारे गए इब्राहिम रईसी करीब चार दशकों तक ईरानी लोगों के उत्पीड़न में क्रूर भागीदार थे। अमेरिका ने कहा कि रईसी के राष्ट्रपति रहने के दौरान ईरान में मानवाधिकारों का बहुत बुरा हनन हुआ।

सैन्य कारणों से अमेरिका ने नहीं की मदद
मिलर ने कहा कि हेलीकॉप्टर दुर्घटना के बाद ईरान ने अमेरिका से मदद मांगी थी, लेकिन मैं विस्तृत जानकारी नहीं दूंगा. मिलर ने कहा कि सैन्य कारणों से अमेरिका ईरान की मदद करने में असमर्थ है इसलिए ईरान को सहायता नहीं दी गई. मिलर ने साफ किया कि रायसी की मौत से ईरान के प्रति अमेरिका का रवैया नहीं बदलेगा.

अज़रबैजान में हुआ हेलिकॉप्टर हादसा
दरअसल, रविवार को ईरानी राष्ट्रपति इब्राहिम रायसी एक बांध का उद्घाटन करने अजरबैजान गए थे. राजधानी तेहरान लौटते वक्त उनका हेलीकॉप्टर ईरान के उत्तर-पश्चिमी इलाके में दुर्घटनाग्रस्त हो गया. हादसे के वक्त मौसम बेहद खराब था, ये हादसा अजरबैजान की उटी पहाड़ियों के बीच हुआ. इस हादसे में ईरान के राष्ट्रपति समेत विदेश मंत्री और 7 अन्य लोगों की मौत हो गई है, हेलीकॉप्टर में कुल 9 लोग सवार थे, सभी की मौत हो गई है.

यह भी पढ़ें: हेलीकॉप्टर दुर्घटना में ईरानी राष्ट्रपति की मौत, 5 दिन के शोक से लेकर नए नेता के चुनाव तक, पढ़ें- 10 प्वाइंट्स में पूरी जानकारी