ईस्टर बम ब्लास्ट मामला, पुलिस पूर्व श्रीलंकाई राष्ट्रपति सिरिसेना से करेगी पूछताछ/क्या है ईस्टर बम ब्लास्ट मामला, जिस पर पुलिस करेगी श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति सिरिसेना से पूछताछ

छवि स्रोत: एपी
मैत्रीपाला सिरिसेना, श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति।

कोलंबो: श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना की मुश्किलें एक बार फिर बढ़ गई हैं। ईस्टर बम विस्फोट मामले में श्रीलंकाई पुलिस पूर्व राष्ट्रपति सिरिसेना से पूछताछ करेगी. आखिरकार, हम आपको बताएंगे कि पूर्व राष्ट्रपति सिरिसेना का ईस्टर ब्लास्ट मामले से क्या लेना-देना था और पुलिस इस मामले में उनसे क्या पूछताछ करना चाहती है। पहले जानिए ईस्टर ब्लास्ट मामला क्या है.

गौरतलब है कि सिरिसेना ने साल 2019 में ईस्टर पर हुए आत्मघाती बम धमाकों को लेकर विवादित टिप्पणी की थी. उन्हें अपनी हालिया टिप्पणी के लिए सोमवार को पुलिस की पूछताछ का सामना करना पड़ेगा. सिरिसेना ने कहा था कि वह हमलों के साजिशकर्ताओं के बारे में “जानते” थे, जिसमें 11 भारतीयों सहित 270 लोग मारे गए थे। बहत्तर वर्षीय सिरिसेना जनवरी 2015 से नवंबर 2019 तक श्रीलंका के राष्ट्रपति थे। उन्होंने पहले हमलों के बारे में किसी भी जानकारी से इनकार किया था।

पूर्व राष्ट्रपति सिरिसेना ने धमाके पर दिया था ये गंभीर बयान

पुलिस प्रमुख देशबंधु तेनाकून ने रविवार को संवाददाताओं से कहा कि सिरिसेना का बयान सोमवार को दर्ज किया जाएगा। पूर्व राष्ट्रपति ने बुधवार को कैंडी में कहा कि वह हमलों के साजिशकर्ताओं को जानते हैं। उन्होंने कहा, ”मुझे पता है कि यह किसने किया।” आईएसआईएस से जुड़े स्थानीय इस्लामिक चरमपंथी समूह नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) के नौ आत्मघाती हमलावरों ने 21 अप्रैल, 2019 को श्रीलंका में तीन चर्चों और कई लक्जरी होटलों में श्रृंखलाबद्ध विस्फोटों को अंजाम दिया था। हालाँकि, 2019 के राष्ट्रपति चुनाव से पहले हुए विस्फोट एक ‘साजिश परिकल्पना’ का विषय थे, माना जाता है कि तब विपक्ष में रहे राजपक्षे बंधुओं ने हमलों का राजनीतिक लाभ उठाया था। (भाषा)

नवीनतम विश्व समाचार