एक खूबसूरत महिला, एक विश्वासपात्र और 12 लोग… तराजू पर लटकी ट्रंप की किस्मत, चुप रहने के पैसे मामले में 10 घंटे तक रणक्षेत्र बनी रही कोर्ट

हाइलाइट

डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ चुप रहने के लिए पैसे देने के मामले की सुनवाई अपने अंतिम चरण में पहुंच गई है।आरोप है कि ट्रम्प का वयस्क स्टार स्टॉर्मी डेनियल्स के साथ संबंध था और उन्होंने उसे अपना मुंह बंद रखने के लिए पैसे दिए थे।इस मामले में जज ने अब डोनाल्ड ट्रंप के भाग्य का फैसला 12 जूरी सदस्यों पर छोड़ दिया है।

न्यूयॉर्क। कभी बिजनेस की दुनिया का चमकता सितारा रहे डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के राष्ट्रपति बनने के बाद से ही लगातार गलत वजहों से चर्चा में हैं। कभी लोग उनकी भाषा को लेकर उनकी आलोचना करते रहे तो कभी उनके कामों को लेकर। हालांकि, इतना कुछ होने के बावजूद वो अडिग रहे और अब एक बार फिर राष्ट्रपति चुनाव में किस्मत आजमाने की तैयारी कर रहे हैं। हालांकि, एक मुकदमा उनकी सारी उम्मीदों पर पानी फेर सकता है। डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ ये केस किसी ब्लॉकबस्टर फिल्म की कहानी से कम नहीं है। इसमें एक पोर्न स्टार है, एक करीबी वकील है जो अब ‘देशद्रोही’ बन चुका है और इसमें ढेर सारा पैसा शामिल है। आरोप है कि ट्रंप ने अपने विश्वासपात्र वकील के जरिए पोर्न स्टार को ये पैसे दिलवाए, ताकि वो उनके राज न खोल दे… ऐसे राज जो ट्रंप की खूबसूरत जिंदगी को कालकोठरी में धकेल सकते हैं, उनके सारे सपने चकनाचूर कर सकते हैं।

ट्रम्प का भाग्य 12 लोगों के हाथ में
डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ इस केस को हश मनी ट्रायल नाम दिया गया था, यानी मुंह बंद रखने के लिए पैसे देने का मामला… इस केस की सुनवाई पूरी हो चुकी है और अब कोर्ट उनके सम्मान, किस्मत और दोबारा राष्ट्रपति बनने की उनकी चाहत पर अपना फैसला सुनाएगा। ट्रंप की किस्मत अब 12 लोगों के हाथ में है। इनमें 7 पुरुष और 5 महिलाएं हैं, जो न्यूयॉर्क के आम नागरिक हैं। अमेरिकी इतिहास में शायद यह अनूठा लम्हा होगा जब पूर्व राष्ट्रपति की किस्मत का फैसला सीधे आम लोगों के हाथ में होगा, जो बेहद मामूली फीस के बदले जूरी मेंबर बनते हैं।

यह भी पढ़ें- अरविंद केजरीवाल को किस बीमारी का डर, उनके शरीर के लक्षण क्या संकेत दे रहे हैं, डॉक्टरों ने क्या कहा?

ट्रंप के खिलाफ़ चुप रहने के लिए पैसे देने के मुकदमे की सुनवाई कर रहे जज युआन मर्चन ने इन 12 जूरी सदस्यों से कहा है कि वे आपस में सलाह करके इस नतीजे पर पहुँचें कि पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति चुप रहने के लिए पैसे देने के मामले में दोषी हैं या नहीं। उनका फ़ैसला इस बात पर निर्भर करेगा कि ट्रंप फिर से सफ़ेद संगमरमर के व्हाइट हाउस में आसीन होंगे या एक बदनाम राष्ट्रपति के तौर पर इतिहास के पन्नों तक सीमित रह जाएँगे।

युद्ध का मैदान अदालत कक्ष बन गया
मंगलवार को इस मामले पर करीब 10 घंटे तक इतनी तीखी बहस हुई कि ऐसा लगा मानो कोर्ट रूम जंग का मैदान बन गया हो। दोनों पक्षों के वकीलों की इन अंतिम दलीलों के बाद मामले की सुनवाई अपने अंतिम चरण में पहुंच गई।

इस मामले की सुनवाई के दौरान सरकारी वकील जोशुआ स्टीनग्लास ने जूरी से कहा, ‘आपको ध्यान भटकाने वाली बातों, प्रेस, राजनीति, शोर-शराबे को एक तरफ रखना होगा। सबूतों और उनसे निकाले जा सकने वाले तार्किक निष्कर्षों पर ध्यान दें। न्याय के हित में और न्यूयॉर्क के लोगों के नाम पर, मैं आपसे प्रतिवादी (ट्रंप) को दोषी ठहराने का अनुरोध करता हूं।’

ये भी पढ़ें- मणिशंकर अय्यर नहीं मानते! चीन को लेकर दिया ऐसा बयान, फिर मांगी माफी, बीजेपी के हमले से बैकफुट पर कांग्रेस

इस मामले में सरकारी वकीलों ने पूर्व राष्ट्रपति पर ‘साजिश रचने और मामले को छिपाने’ का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि ट्रंप ने एडल्ट फिल्म स्टार स्टॉर्मी डेनियल्स को पैसे दिए और इस तथ्य को छिपाने के लिए वित्तीय रिकॉर्ड में हेरफेर किया और फिर 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में मतदाताओं को धोखा दिया।

ट्रम्प ने खुद को निर्दोष बताया
डोनाल्ड ट्रंप ने स्टॉर्मी डेनियल्स के साथ किसी भी तरह के रिश्ते से इनकार किया है और इस मामले में खुद को निर्दोष बताया है। उनके मुख्य बचाव पक्ष के वकील टॉड ब्लैंच ने मामले के मुख्य गवाह माइकल कोहेन की विश्वसनीयता पर सवाल उठाने की कोशिश की। उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप को ‘ठग’ कहने वाले कोहेन को ‘अब तक का सबसे बड़ा झूठा’ बताया। इसके साथ ही उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि पूर्व राष्ट्रपति ने कोई अपराध नहीं किया और इस बात का कोई सबूत नहीं है कि ट्रंप ने डेनियल्स को अपना मुंह बंद रखने के लिए पैसे देने की योजना बनाई थी।

इस हश मनी मामले में ट्रंप के खिलाफ 34 आपराधिक मामले चल रहे हैं। अब इस मामले में फैसला जूरी पर छोड़ दिया गया है। ट्रंप को दोषी ठहराने के लिए जूरी को सबसे पहले यह देखना होगा कि उन्होंने वित्तीय दस्तावेजों के साथ छेड़छाड़ की है या नहीं और यह किसी अन्य अपराध को छिपाने के इरादे से किया गया था। जूरी सदस्यों के लिए निर्णय पर पहुंचने की कोई समय सीमा नहीं है, लेकिन एक बार जब वे निर्णय पर पहुंच जाएंगे, तो इसकी गूंज पूरी दुनिया में होगी।

टैग: अमेरिका समाचार, डोनाल्ड ट्रम्प