कटोरा लेकर दर-दर भटक रहा भिखारी पाकिस्तान, अब फिर चीन से मांग रहा 2 अरब डॉलर की भीख/कटोरा लेकर दर-दर भटक रहा भिखारी पाकिस्तान, अब फिर चीन से मांग रहा 2 अरब डॉलर की भीख

छवि स्रोत: एपी
अनवर-उल-हक कक्कड़, पाकिस्तान के कार्यवाहक प्रधानमंत्री।

बार-बार इनकार और फटकार के बाद भी पाकिस्तान गिड़गिड़ाने की आदत नहीं छोड़ रहा है. अब पाकिस्तान ने एक बार फिर अपने दोस्त चीन की तरफ भीख का कटोरा बढ़ाया है. इससे पहले पाकिस्तान सऊदी अरब, अमेरिका और अन्य इस्लामिक देशों से भीख मांग चुका है. इससे पहले भी पाकिस्तान ने चीन से मदद मांगी थी, लेकिन ड्रैगन ने इनकार कर दिया था. अब एक बार फिर नकदी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान ने अपने करीबी सहयोगी चीन से एक साल के लिए दो अरब डॉलर का कर्ज मांगा है. शनिवार को एक मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई.

कार्यवाहक प्रधान मंत्री अनवारुल हक काकर ने चीन के प्रधान मंत्री ली कियांग को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि 23 मार्च को चीन के ऋण वसूली की समय सीमा समाप्त होते ही ऋण वापस कर दिया जाए। समाचार पत्र द एक्सप्रेस ट्रिब्यून के अनुसार, काकर ने पत्र में आभार व्यक्त किया है आर्थिक संकट के दौरान पाकिस्तान को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए चीन। पाकिस्तान ने ऋण के रूप में चीन से कुल चार अरब डॉलर जुटाए हैं, जिससे देश पर विदेशी ऋण भुगतान पर बढ़ता दबाव कम हो गया है और उसके विदेशी मुद्रा भंडार की स्थिति स्थिर हो गई है।

सऊदी अरब ने दिया हुआ कर्ज़ वापस ले लिया

इसी महीने संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने पाकिस्तान से दो अरब डॉलर का कर्ज वापस ले लिया था. इसके अलावा सऊदी अरब ने स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान में पांच अरब डॉलर जमा कराए हैं. यूएई द्वारा ऋण वापस लेने के बाद, पाकिस्तान की अंतरिम सरकार ने अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) से 1.2 बिलियन डॉलर की अंतिम ऋण किश्त पर बातचीत करने के लिए इस महीने एक नया मिशन भेजने का अनुरोध किया। आईएमएफ का अगला मिशन न केवल अंतिम ऋण किश्त को सुरक्षित करना महत्वपूर्ण है बल्कि एक नए दीर्घकालिक कार्यक्रम के लिए बातचीत शुरू करना भी महत्वपूर्ण है। (भाषा)

ये भी पढ़ें

नवीनतम विश्व समाचार