कनाडा के मंत्री डॉमिनिक लेब्लांक ने इंदिरा गांधी की हत्या के पोस्टर की निंदा की, कहा हिंसा को बढ़ावा देना कभी स्वीकार्य नहीं

इंदिरा गांधी: पूर्व भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या को दर्शाने वाले पोस्टर कथित तौर पर खालिस्तानी समर्थकों द्वारा कनाडा के वैंकूवर में लगाए गए थे। इंदिरा गांधी की हत्या को दर्शाने वाले पोस्टर पर प्रतिक्रिया देते हुए कनाडा में ट्रूडो सरकार के एक मंत्री ने कहा कि कनाडा में हिंसा को बढ़ावा देना कभी भी स्वीकार नहीं किया जा सकता।

दरअसल, कनाडा में ट्रूडो सरकार के सार्वजनिक सुरक्षा, लोकतांत्रिक संस्थानों और अंतर-सरकारी मामलों के मंत्री डोमिनिक ए लेब्लांक ने इस मामले पर सोशल मीडिया साइट एक्स का सहारा लिया। इस दौरान डोमिनिक ए लेब्लांक ने कहा कि इस सप्ताह वैंकूवर में पूर्व भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या को दर्शाती तस्वीरें सामने आईं। उन्होंने कहा कि कनाडा में हिंसा को बढ़ावा देना कभी भी स्वीकार्य नहीं है।

हालांकि, भारत सरकार ने इस संबंध में देश के विदेश मंत्रालय ग्लोबल अफेयर्स कनाडा के समक्ष औपचारिक कूटनीतिक शिकायत दर्ज करा दी है। भारत ने ट्रूडो सरकार के समक्ष कनाडा में अलगाववादियों, आतंकवादियों और भारत विरोधी तत्वों को जगह दिए जाने का मुद्दा बार-बार उठाया है।

भारतीय-कनाडाई सांसद चंद्रा आर्य ने रैली में पोस्टरों के इस्तेमाल की निंदा की

वहीं, कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो की पार्टी के सांसद चंद्र आर्या ने कहा कि वैंकूवर में खालिस्तानी समर्थक पूर्व भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के गोलियों से छलनी शव के पोस्टर लेकर आए, जिसमें उनके हत्यारे अंगरक्षकों के हाथ में बंदूकें हैं। जहां खालिस्तानी समर्थक फिर से हिंदू-कनाडाई लोगों में हिंसा का डर पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि “यह धमकियों का सिलसिला है, जिसमें कुछ साल पहले ब्रैम्पटन में इसी तरह का जुलूस और कुछ महीने पहले सिख फॉर जस्टिस के (गुरपतवंत सिंह) पन्नू द्वारा हिंदुओं से भारत वापस जाने के लिए कहा जाना शामिल है।” इस बीच, सांसद आर्य ने कनाडा में कानून प्रवर्तन एजेंसियों से तत्काल कार्रवाई करने को कहा है।

पिछले साल कनाडा में निकाली गई थी ऐसी झांकी

यह पहली बार नहीं है कि कनाडा में किसी पूर्व प्रधानमंत्री के खिलाफ हिंसा को दर्शाती झांकी दिखाई गई हो। जून 2023 में ग्रेटर टोरंटो एरिया में शहीदी दिवस परेड के दौरान दिवंगत प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या को दर्शाती झांकी दिखाई गई थी। खालिस्तानी तत्वों को खुली छूट दिए जाने के कारण भी भारत और कनाडा के बीच संबंध खराब हुए हैं।

कनाडा ने यह भी आरोप लगाया है कि आतंकवादी घोषित किए गए हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के लिए भारत जिम्मेदार है, लेकिन भारत ने इस दावे को ‘निराधार’ बताया है और कहा है कि कनाडाई अधिकारी अपने दावे के समर्थन में सबूत पेश नहीं कर सके।

यह भी पढ़ें: ओडिशा CM शपथ ग्रहण समारोह: ओडिशा में शपथ ग्रहण की तारीख बदली, अब 10 की जगह 12 जून को होगा कार्यक्रम