कनाडा भारत तनाव कनाडाई पेंशन योजना निवेश भारत में 500 मिलियन डॉलर से अधिक का निवेश करता है आव्रजन नीति बदल गई

एक तरफ कनाडा अपनी नीतियों में बदलाव करके भारत को झटके दे रहा है तो दूसरी तरफ वह भारत में भारी निवेश कर रहा है। इस तनावपूर्ण माहौल के बीच कनाडा ने भारत में करोड़ों रुपए का निवेश किया है। कनाडा पेंशन प्लान इन्वेस्टमेंट ने देश में दो परियोजनाओं के लिए 500 मिलियन से अधिक का निवेश किया है। वहीं पिछले वित्त वर्ष में दो और परियोजनाओं में 400 मिलियन से अधिक निवेश करने का वादा किया था।

गुरुवार (23 मई) को सीपीपी ने एक बयान में यह जानकारी दी। सीपीपी एक पेशेवर निवेश प्रबंधन संगठन है, जो कनाडा पेंशन योजना के 2 करोड़ 20 लाख लाभार्थियों के खातों का प्रबंधन करता है। बयान के मुताबिक, ये निवेश नेशनल हाईवे इंफ्रा ट्रस्ट (एनएचआईटी) और एंटरप्राइज ट्रस्ट में किया गया है।

तनाव के बीच भारत में करोड़ों डॉलर का निवेश
गुरुवार को कनाडा पेंशन प्लान इन्वेस्टमेंट्स (CPP इन्वेस्टमेंट्स) ने कहा कि उसने NHIT के लिए 217.13 मिलियन डॉलर और एंटरप्राइज ट्रस्ट के लिए 394.78 मिलियन डॉलर का निवेश भी किया है। यह निवेश 2023-24 के लिए किया गया है। NHIT को भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण प्रायोजित करता है।

सीपीपी के बयान के अनुसार, पिछले वित्तीय वर्ष में उसने केदारा कैपिटल फंड IV में 100 मिलियन डॉलर तथा एक अन्य परियोजना में 300 मिलियन डॉलर के निवेश का भी वादा किया था।

खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के बाद जस्टिन ट्रूडो ने भारत के खिलाफ सख्त रुख अपनाया है। निज्जर कनाडा का नागरिक था और जस्टिन ट्रूडो का आरोप है कि उसकी हत्या में भारत का हाथ हो सकता है। इसके बाद से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है। हाल ही में कनाडा ने इमिग्रेशन पॉलिसी में बदलाव कर भारतीय छात्रों और नागरिकों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने इमिग्रेशन परमिट में 25 फीसदी की कटौती कर दी है। इस बदलाव के बाद भारतीय छात्रों को जबरन भारत भेजा जा रहा है। इस बदलाव के विरोध में सैकड़ों छात्र सड़कों पर उतर आए हैं।

यह भी पढ़ें-
Canada News: छात्रों और नागरिकों को झटका, कनाडा करने जा रहा नियमों में बड़ा बदलाव, भारतीयों को जबरन किया जा रहा है निर्वासित