कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से फ्रांस, पेरिस का एफिल टावर बंद, जानिए क्या है वजह?

एफिल टॉवर: फ्रांस की राजधानी पेरिस में स्थित एफिल टावर बुधवार (27 दिसंबर) को बंद कर दिया गया। कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने के बाद दुनिया के प्रमुख पर्यटक आकर्षणों में से एक एफिल टॉवर को बंद कर दिया गया। यह जानकारी एफिल टावर का संचालन करने वाली संस्था SETE ने दी है.

एपी की रिपोर्ट के मुताबिक, हार्ड-लेफ्ट सीजीटी यूनियन ने एक बयान में कहा कि यह हड़ताल टावर बनाने वाले इंजीनियर गुस्ताव एफिल की मौत की 100वीं बरसी पर बुलाई गई है. यूनियन ने कहा कि हमारी कुछ मांगें हैं, जिसके चलते यह हड़ताल हुई है. हालांकि, मांगें क्या हैं, इसके बारे में कोई जानकारी सामने नहीं आई है। आपको बता दें कि इसके डिजाइनर गुस्ताव की मौत आज ही के दिन यानी 28 दिसंबर साल 1923 में हुई थी. ऐसे में गुस्ताव की मौत को 100 साल बीत चुके हैं.

अगली सूचना तक टावर बंद कर दिया गया

एफिल टॉवर के प्रवक्ता के अनुसार, पर्यटक अभी भी टॉवर के नीचे कांच से घिरे एस्प्लेनेड तक पहुंच सकते हैं, लेकिन 300 मीटर (984 फीट) के ऐतिहासिक स्थल तक पहुंच अगली सूचना तक बंद है। प्रवक्ता ने कहा कि हड़ताल की घोषणा पेरिस शहर के साथ अनुबंध वार्ता से पहले की गई थी। यूनियन प्रतिनिधियों ने अभी तक यह खुलासा नहीं किया है कि यह हड़ताल कब तक चलेगी.

बम से उड़ाने की भी धमकी दी गई

दुनिया में सबसे अधिक देखी जाने वाली जगहों में से एक, एफिल टॉवर आम तौर पर साल में 365 दिन खुला रहता है। हालाँकि, यहाँ कभी-कभी हड़तालें देखी जाती हैं। गौरतलब है कि इसी साल अगस्त में एफिल टावर को बम से उड़ाने की धमकी मिली थी, जिसके बाद एहतियात के तौर पर इसे खाली करा लिया गया था. हालांकि बम की ये धमकी महज अफवाह निकली. आपको बता दें कि इस ऐतिहासिक मीनार का निर्माण कार्य जनवरी 1887 में शुरू हुआ और 31 मार्च 1889 को समाप्त हुआ।

यह भी पढ़ें: रूस यूक्रेन युद्ध: जापान और दक्षिण कोरिया पर भड़का रूस, व्लादिमीर पुतिन बोले- गंभीर परिणाम होंगे