किम जोंग उन ने पड़ोसी देश को कचरे से भरे गुब्बारों से किया परेशान, साउथ कोरिया ने उठाया बड़ा कदम

छवि स्रोत : एएनआई
दक्षिण कोरिया में कचरा गुब्बारे

उत्तर कोरिया अक्सर अपने मिसाइल परीक्षणों के लिए चर्चा में रहता है, लेकिन इस बार उत्तर कोरिया ने जो किया है, वो कोई देश सोच भी नहीं सकता। उत्तर कोरिया ने दक्षिण कोरिया को परेशान करने के इरादे से गंदगी फैलाना शुरू कर दिया है। उत्तर कोरिया ने कचरे से भरे सैकड़ों गुब्बारे दक्षिण कोरिया में छोड़े हैं। ये गुब्बारे गंदगी से भरे हैं, इसलिए दक्षिण कोरियाई अधिकारियों ने आम लोगों से घरों के अंदर रहने और गुब्बारों के पास न जाने और न ही उन्हें छूने को कहा है। दक्षिण कोरिया के 8 प्रांतों में ऐसे गुब्बारे मिले हैं। अब तक ऐसे गुब्बारों की ज्ञात संख्या 260 है। राजधानी सियोल और देश के दक्षिण-पूर्वी प्रांत ग्योंगसांग में भी गुब्बारे गिरे हैं।

दक्षिण कोरियाई सेना ने चेतावनी जारी की

दक्षिण कोरियाई सेना के ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ ने कहा कि गुब्बारों के साथ आए कचरे में प्लास्टिक की बोतलें, क्षतिग्रस्त जूतों के हिस्से और कीचड़ शामिल थे। सेना फिलहाल इन गुब्बारों की जांच कर रही है। दक्षिण कोरियाई सेना का कहना है कि उत्तर कोरिया की यह हरकत अंतरराष्ट्रीय कानूनों का स्पष्ट उल्लंघन है और यह हमारे नागरिकों की सुरक्षा के लिए भी खतरा है। दक्षिण कोरियाई सेना ने उत्तर कोरिया को चेतावनी दी कि वह इस तरह की अमानवीय हरकतें बंद करे।

कचरे से भरे गुब्बारे

इस घटना के बाद कई लोगों ने सोशल मीडिया पर गुब्बारों के वीडियो और फोटो शेयर किए हैं। स्थानीय लोगों के मुताबिक, गुब्बारों में धागे से कुछ बंधा हुआ था। जब उन्हें खोला गया तो उनमें टॉयलेट पेपर, बैटरी, कचरा और दूसरी चीजें मिलीं। प्रशासन ने नागरिकों से ऐसी किसी भी वस्तु के बारे में पुलिस को सूचित करने को कहा है। रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, मिलिट्री एक्सप्लोसिव ऑर्डिनेंस, केमिकल और बायोलॉजिकल वारफेयर रिस्पॉन्स टीम को जांच में लगाया गया है।

यह गुब्बारा ‘युद्ध’ है

आपको बता दें कि उत्तर और दक्षिण कोरिया दोनों ने 1950 के दशक में कोरियाई युद्ध के बाद से अपने प्रचार अभियान में गुब्बारों का इस्तेमाल किया है। उत्तर कोरिया के उप रक्षा मंत्री किम कांग इल ने एक बयान में कहा, ‘जल्द ही सीमावर्ती क्षेत्रों और कोरिया गणराज्य (दक्षिण कोरिया) के अंदरूनी हिस्सों में बेकार कागज और कचरे के ढेर बिखरे हुए दिखाई देंगे और उन्हें एहसास होगा कि इसे हटाने के लिए कितने प्रयास की आवश्यकता है।’ कोरिया गणराज्य दक्षिण कोरिया का आधिकारिक नाम है जबकि उत्तर को डीपीआरके या डेमोक्रेटिक पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ कोरिया कहा जाता है।

यह भी पढ़ें:

उत्तर कोरिया: अंतरिक्ष में जासूसी उपग्रह तैनात करने की कोशिशें उल्टी पड़ीं, किम बोले ‘मैंने हार नहीं मानी…’

भ्रष्टाचार के एक मामले में चीन की अदालत ने सुनाई खौफनाक सजा, जानकर चौंक जाएंगे आप

नवीनतम विश्व समाचार