किर्गिस्तान हिंसा: किर्गिस्तान में भारी हंगामा! भारतीय और पाकिस्तानी छात्रों पर हमला क्यों किया गया? जानिए हिंसा की पूरी वजह

नई दिल्ली: किर्गिस्तान में अंतरराष्ट्रीय छात्रों के खिलाफ हिंसा सुर्खियों में है। हिंसा के बीच, भारत और पाकिस्तान ने छात्रों को सलाह जारी कर उन्हें घर पर रहने के लिए कहा है। सलाह के कुछ घंटों बाद, किर्गिज़ गणराज्य के विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी किया। बयान में किर्गिस्तान ने कहा है कि ‘विनाशकारी ताकतें जानबूझकर किर्गिज गणराज्य की स्थिति के बारे में विदेशी मीडिया में गलत जानकारी फैला रही हैं।’

आपको बता दें कि किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक में पिछले कई दिनों से उथल-पुथल मची हुई है. हिंसक भीड़ ने उन हॉस्टलों को निशाना बनाया है जहां बांग्लादेश, पाकिस्तान और भारत के छात्र रहते हैं. दूतावास ने कहा है कि शुक्रवार शाम से बिश्केक में विदेशी छात्रों के खिलाफ भीड़ की हिंसा की खबरें आ रही हैं.

पढ़ें- Gaza War Live: इजरायली हमले से गाजा में भारी तबाही, हर तरफ मलबा और धुआं, तेल अवीव में सड़कों पर उतरे लोग

क्यों भड़की हिंसा?
किर्गिस्तान मीडिया रिपोर्ट का कहना है कि यह लड़ाई 13 मई की है. जब मिस्र के कुछ मेडिकल छात्रों और कुछ किर्गिज़ छात्रों के बीच विवाद हो गया था. दोनों गुटों के बीच झड़प हुई और इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. इसके बाद 16 मई को अंतरराष्ट्रीय छात्रों पर हमला किया गया। इसके बाद हालात और बिगड़ गए.

16 मई की घटना के बाद, भीड़ ने विदेशी छात्रों, विशेषकर पाकिस्तान और भारत के छात्रों पर हमला करना शुरू कर दिया। WION की रिपोर्ट के मुताबिक, एक भारतीय नागरिक ने शुक्रवार देर रात भारतीय दूतावास से संपर्क किया और अधिकारी से कहा कि उसे सहायता और सुरक्षा की सख्त जरूरत है.

भीड़ ने मेडिकल यूनिवर्सिटी के हॉस्टलों पर हमला कर दिया, जिनमें बांग्लादेश और पाकिस्तान के छात्र रहते थे. पाकिस्तान की आज न्यूज़ के मुताबिक, छात्राओं को परेशान किया गया और कई को चोट पहुंचाई गई. हमलों में कम से कम 14 पाकिस्तानी छात्र घायल बताए जा रहे हैं.

टैग: विश्व समाचार, विश्व समाचार हिंदी में