‘कुरान पढ़ें और समझें’, ईरान के सुप्रीम लीडर ने अमेरिकी छात्रों को लिखा पत्र, कहा- अल्लाह की मंजूरी से मिलेगी जीत – ईरान के सुप्रीम लीडर अयातुल्ला अली खामेनेई का अमेरिकी इजरायल विरोधी प्रदर्शनकारी छात्रों को पत्र

तेहरान. पिछले साल अक्टूबर में हमास के लड़ाके इजरायल में घुस आए थे और जमकर खून-खराबा किया था। इस हमले में 1200 लोग मारे गए थे और करीब 250 लोगों को बंधक बना लिया गया था। इसके बाद इजरायल ने हमास के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया और गाजा पट्टी पर हमला कर दिया। इजरायल और हमास के बीच पिछले कई महीनों से खूनी संघर्ष चल रहा है। हाल ही में इजरायल ने गाजा में विस्थापित लोगों के लिए बनाए गए टेंट कैंप पर हवाई हमला किया था। इसमें दर्जनों लोग मारे गए थे। इस घटना की चारों तरफ आलोचना हुई थी। अमेरिका की विभिन्न यूनिवर्सिटी में एक बार फिर छात्र विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। अब ईरान के सुप्रीम लीडर अयातुल्ला अली खामेनेई ने अमेरिका के आंदोलनकारी छात्रों को एक पत्र लिखा है। खामेनेई ने अमेरिकी छात्रों से कुरान पढ़ने और उसे समझने की अपील की है।

ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनेई ने अमेरिकी छात्रों से कुरान से परिचित होने का आह्वान किया है। अमेरिकी छात्रों को लिखे पत्र में फिलिस्तीनियों की रक्षा के लिए सहानुभूति और एकजुटता व्यक्त करते हुए खामेनेई ने छात्रों से कहा कि अल्लाह की स्वीकृति से जीत हासिल होगी।

अयातुल्ला अली खामेनेई ने पत्र में कहा, ‘हम मुसलमानों और पूरी मानवता के लिए कुरान की शिक्षा यही है कि जो सही है उसके लिए खड़े हों। इसलिए जैसा आपको आदेश दिया गया है, उसी तरह दृढ़ रहें। मानवीय संबंधों के लिए कुरान की शिक्षा है – ज़ुल्म न करें और ज़ुल्म को बर्दाश्त न करें। प्रतिरोध बल ऐसे सैकड़ों अन्य आदेशों की व्यापक समझ और अभ्यास के साथ आगे बढ़ता है और अल्लाह की अनुमति से जीत हासिल करेगा। मैं आपको कुरान से परिचित होने की सलाह देता हूं।’ उन्होंने अपने पत्र में आगे कहा कि जैसे-जैसे इतिहास का पन्ना पलट रहा है, आपको इसके सही पक्ष पर खड़ा होना है।

‘परिस्थितियां बदल रही हैं’
ईरान के सुप्रीम लीडर ने आगे कहा कि परिस्थितियां बदल रही हैं। उन्होंने कहा, ‘मैं आपको भरोसा दिलाना चाहता हूं कि आज परिस्थितियां बदल रही हैं। पश्चिम एशिया के महत्वपूर्ण क्षेत्र का भाग्य अलग है। वैश्विक स्तर पर लोगों की अंतरात्मा जाग गई है और सच्चाई सामने आ रही है। इसके अलावा रेजिस्टेंस फोर्स की ताकत बढ़ी है और यह और भी मजबूत होगी।’ बता दें कि इजरायली हमले के खिलाफ अमेरिकी शिक्षण संस्थानों में एक बार फिर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए हैं।

टैग: अमेरिका समाचार, अयातुल्ला अली ख़ामेनेई, हमास का इजरायल पर हमला