केके पाठक के पास न तो कार है और न ही कोई आभूषण, इस बड़े अधिकारी के पास है एक सोने की चेन और चार हीरे, जानिए किस अधिकारी के पास है कितनी संपत्ति

पर प्रकाश डाला गया

नीतीश सरकार के अधिकारियों ने घोषित की अपनी संपत्ति.
विभागों ने अधिकारियों की संपत्ति की घोषणा का ब्योरा जारी किया.
जानिए बिहार में किस बड़े अधिकारी के पास है कितनी संपत्ति.

पटना. बिहार में मंत्रियों के बाद अब राज्य सरकार के अधिकारियों ने भी अपनी संपत्ति की घोषणा कर दी है. विभागों ने अधिकारियों की संपत्ति की घोषणा को लेकर ब्योरा जारी कर दिया है. अधिकारियों ने संपत्ति घोषणा पत्र में अर्जित चल-अचल संपत्ति का ब्योरा दिया है. विभाग स्तर से जारी ब्योरे के मुताबिक राज्य के मुख्य सचिव ब्रजेश मेहरोत्रा, शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक और डीजीपी आरएस भट्टी समेत कई आला अधिकारियों ने अपनी संपत्ति की घोषणा की है. आइए जानते हैं किसके पास है कितनी संपत्ति.

बिहार राज्य के मुख्य सचिव ब्रजेश मेहरोत्रा ​​के तीन बैंक खाते हैं जिनमें करीब 19 लाख रुपये जमा हैं. मुख्य सचिव मेहरोत्रा ​​के राजभवन की एसबीआई शाखा में 11.81 लाख रुपये, पाटलिपुत्र कॉलोनी के केनरा बैंक में 33 हजार रुपये और एक्सिस बैंक में 7.70 लाख रुपये जमा हैं. इसके अलावा उनके पास एक सोने की चेन और चार हीरे हैं। यह उन्हें उनकी शादी के वक्त तोहफे के तौर पर मिला था. उनके पास लखनऊ के गोमती नगर में एक फ्लैट है जिसे उन्होंने अपनी पत्नी के साथ संयुक्त रूप से खरीदा है। इसकी कीमत करीब 27 लाख रुपये है. इसके अलावा विस्टा टावर गोमती नगर में एक और फ्लैट है जिसकी कीमत करीब 80 लाख रुपये है. उनकी पत्नी ममता मेहरोत्रा ​​के पास भी आभूषण हैं जो उन्हें उनकी मां ने उपहार में दिये थे.

केके पाठक के पास कितनी संपत्ति है?
बिहार में एक अधिकारी की सबसे ज्यादा चर्चा होती है और वो हैं शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक. ऐसे में हर कोई उनसे जुड़ी बातें जानने में दिलचस्पी रखता है। अब केके पाठक ने भी अपनी संपत्ति घोषित कर दी है. ईमानदार छवि के अधिकारी केके पाठक के पास न तो अपनी कार है और न ही कोई आभूषण। उनके पास सिर्फ 15 हजार रुपये नकद हैं. वहीं, केके पाठक के बैंक खातों में कोई खास रकम नहीं है. उनके बचत खाते में 8.71 लाख रुपये हैं. पीपीएफ खाते में 56.27 लाख रुपये और जीपीएफ में 1.60 करोड़ रुपये हैं.

डीजीपी की पत्नी को है इस चीज का शौक!
बिहार के डीजीपी आरएस भट्टी को सोने-चांदी का शौक नहीं है, लेकिन उनकी पत्नी को सोने-चांदी का शौक जरूर है। उनके पास करीब 91 लाख रुपये की ज्वेलरी है. डीजीपी भट्टी के पास 45 हजार रुपये और उनकी पत्नी के पास 35 हजार रुपये नकद हैं. भट्टी ने अब तक बैंक में 41.81 लाख रुपये जमा कर दिए हैं. उन्होंने बॉन्ड और शेयरों में करीब 54 लाख रुपये का निवेश किया है. उनका चंडीगढ़ में पांच सौ वर्ग गज का मकान है।

इस अधिकारी को कैमरे का शौक है
कैबिनेट के अपर मुख्य सचिव डॉ एस सिद्धार्थ कैमरे के शौकीन हैं. उसके पास निकॉन कैमरा और लेंस के अलावा एक पिस्तौल भी है। डॉ. सिद्धार्थ के बैंक में 52.81 लाख रुपये जमा हैं. उन्होंने शेयरों में भी निवेश किया है. उनके पास दिल्ली के द्वारका में एक फ्लैट है जिसकी कीमत करीब 25 लाख रुपये है. उन्होंने बैंक से करीब 90 लाख रुपये का कर्ज लिया है. इस बैंक ऋण का 75 लाख 52 हजार रुपये लौटाना बाकी है।

इस बड़े अधिकारी के पास है सिर्फ इतनी संपत्ति!
भवन निर्माण सचिव के अलावा पटना प्रमंडलीय आयुक्त कुमार रवि के पास मात्र 11 हजार रुपये नकद हैं. उनकी पत्नी के पास 17500 रुपये हैं. कुमार रवि के पास 40 ग्राम सोना है और उनकी पत्नी के पास 265 ग्राम सोना है. दोनों सोने की कीमत 9.70 लाख रुपये है. पत्नी के पास भी चार सौ ग्राम चांदी है। उनके पास कोई कृषि या गैर-कृषि भूमि नहीं है। उनके पास पटना में एक फ्लैट जरूर है जिसकी कीमत करीब 53 लाख रुपये है. यह फ्लैट कुमार रवि और उनकी पत्नी दोनों के नाम पर है.

जानिए राज्यपाल के करीबी अफसरों के बारे में
राज्यपाल के प्रधान सचिव रॉबर्ट एल चोंग्थू संपत्ति के मामले में अपनी पत्नी से भी गरीब हैं। वैसे रॉबर्ट के पास दो कारें जरूर हैं. एक कार मारुति अर्टिगा है जो उन्होंने 2013 में खरीदी थी, जबकि दूसरी कार मारुति ब्रेज़ा है जो उन्होंने 2018 में खरीदी थी। चोंगथु के पास 10,000 रुपये नकद हैं, जबकि लगभग 1.60 लाख रुपये बैंक में जमा हैं। वहीं, उनकी पत्नी जसलीन के पास 20 हजार रुपये नकद, बैंक में करीब 15 लाख रुपये और पीपीएफ खाते में 12 लाख रुपये हैं.

टैग: बिहार ताजा खबर, बिहार के समाचार, पटना न्यूज़ अपडेट