क्या दुनिया को डोनाल्ड ट्रंप की वापसी से डरना चाहिए? पूर्व विदेश मंत्री ने दिया जवाब, भारत के साथ रिश्तों पर भी बोले

पर प्रकाश डाला गया

अमेरिका के पूर्व विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने भारत को अहम साझेदार बताया.
पोम्पियो ने रूस और यूक्रेन युद्ध पर भी बड़ा बयान दिया.

नई दिल्ली। न्यूज 18 के दो दिवसीय कार्यक्रम राइजिंग इंडिया 2024 के आखिरी दिन आज अमेरिका के पूर्व विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ भी दिल्ली के ताज होटल पहुंचे. उन्होंने डोनाल्ड ट्रंप सरकार के कार्यकाल में बड़ी भूमिका निभाई. उम्मीद की जा रही है कि इस साल के अंत में होने वाले अमेरिकी आम चुनाव के दौरान ट्रंप फिर से अमेरिका की सत्ता में आ सकते हैं. ऐसे में पोम्पिओ ने ट्रंप के आने से अमेरिका-भारत संबंधों और रूस-यूक्रेन युद्ध जैसे गंभीर मुद्दों पर अपनी प्रतिक्रिया दी.

सबसे पहले उनसे ट्रंप सरकार के आने के बाद भारत-अमेरिका संबंधों के बारे में पूछा गया. इस पर पूर्व अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा, ‘भारत और अमेरिका के बीच हमेशा व्यापार होता रहेगा। यह स्वाभाविक है। ट्रंप का दूसरा कार्यकाल कैसा होगा, इसके बारे में सोचने का सबसे अच्छा तरीका यह जानना है कि उनका पहला कार्यकाल कैसा था। हमने भारत के साथ राष्ट्रीय सुरक्षा क्षेत्र, अर्थशास्त्र क्षेत्र, वैश्विक मंच पर भी काम किया है। मुझे उम्मीद है कि ट्रंप प्रशासन के दूसरे कार्यकाल की नीतियां पहले की तरह ही होंगी.

भारत के साथ रिश्ते प्राथमिकता
माइक पोम्पिओ ने आगे कहा, ‘मुझे पूरी उम्मीद है कि जिस तरह उन्होंने पहले काम किया है, आगे भी करते रहेंगे. शायद प्रत्येक देश के लिए उनकी अलग-अलग नीतियां होंगी लेकिन भारत के साथ गहरे द्विपक्षीय व्यापार संबंध बनाए रखना हमारे प्रयासों के केंद्र में रहेगा। मुझे उम्मीद है कि अमेरिकी लोग ट्रंप को फिर से राष्ट्रपति चुनेंगे.’

क्या दुनिया को ट्रम्प की वापसी से डरना चाहिए?
राइजिंग इंडिया समिट के दौरान पूर्व अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पिओ से पूछा गया कि क्या दुनिया को जनवरी 2025 में अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में ट्रम्प की वापसी से डरना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि दुनिया को ट्रम्प को लेकर रोमांचित होना चाहिए। उनके कार्यकाल में कितने युद्ध प्रारम्भ हुए? क्या आपको कोई जानकारी है? शून्य। दो साल बाद यूरोप में बड़े विवाद शुरू हुए। मेरे जीवनकाल में जो सबसे भयावह घटना घटी है वह है हमास का हमला और ईरानी प्रशासन ने महिलाओं के साथ जो किया। ट्रंप के कार्यकाल में ऐसी चीजें नहीं हुईं.’ हमने शांति और समृद्धि स्थापित की. ट्रंप के आने के बाद व्लादिमीर पुतिन यूक्रेन की एक इंच जमीन पर भी कब्जा नहीं कर पाएंगे.

टैग: माइक पोम्पिओ, न्यूज18 राइजिंग इंडिया समिट, उभरता हुआ भारत शिखर सम्मेलन