गाजा में तत्काल युद्धविराम चाहते थे अरब नेता, ‘वीटो’ करने पर क्या कह रहा था अमेरिका?

इजराइल और हमास के बीच युद्ध करीब एक महीना चलने वाला है. अरब देश इजरायल पर युद्धविराम के लिए दबाव बना रहे हैं, लेकिन अमेरिका इससे पीछे हट गया है. 4 अक्टूबर को एक बैठक में अरब नेताओं ने तत्काल युद्धविराम पर जोर दिया, लेकिन अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि इससे आतंकवादी समूह हमास को और अधिक हिंसा करने के लिए प्रोत्साहन मिलेगा.

नेतन्याहू से बंद कमरे में बातचीत
ब्लिंकन मिस्र, जॉर्डन, सऊदी अरब, कतर और अमीरात के राजनयिकों से बात कर रहे थे। उन्होंने गाजा में नागरिकों की रक्षा करने और उन्हें सहायता प्रदान करने पर जोर दिया, लेकिन ‘संघर्ष विराम’ के मुद्दे पर वीटो कर दिया। इस बैठक से एक दिन पहले ब्लिंकन ने इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू से बंद कमरे में बातचीत की थी।

मिस्र के राजनयिक समेह शौकरी ने कहा, “हम गाजा में फिलिस्तीनियों की ‘सामूहिक सजा’ के औचित्य को आत्मरक्षा के अधिकार के रूप में स्वीकार नहीं कर सकते। यह बिल्कुल भी वैध आत्मरक्षा नहीं हो सकती है।”

क्या है अमेरिका का रुख?
एंटनी ब्लिंकन अमेरिका की स्थिति पर अड़े हुए हैं कि 7 अक्टूबर को हमास द्वारा किए गए आश्चर्यजनक हमले के बाद युद्धविराम अपने नागरिकों की रक्षा करने के इजरायल के अधिकार और दायित्व को नुकसान पहुंचाएगा। उन्होंने कहा कि इजरायल के आत्मरक्षा के अधिकार का समर्थन करने के लिए बिडेन प्रशासन की प्रतिबद्धता अटूट है।

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा, ‘हमारा मानना ​​है कि युद्धविराम से हमास को फिर से खड़ा होने और जो उसने किया उसे दोहराने में मदद मिलेगी।’ उन्होंने कहा कि अमेरिका गाजा निवासियों को सहायता पहुंचाने के इजराइल के अभियान में “मानवीय रोक” का समर्थन करता है। एक दिन पहले ही नेतन्याहू ने उनकी अपील खारिज कर दी थी.

अरब नेता क्या चाहते हैं?
उधर, अरब अधिकारियों का कहना है कि गाजा में हत्याओं को तुरंत रोकने और मानवीय सहायता बहाल करने को प्राथमिकता दी जानी चाहिए। युद्ध के बाद गाजा का भविष्य क्या होगा? इस बारे में बाद में सोचा जा सकता है.

अमेरिका के रुख पर हमास ने क्या कहा?
उधर, अमेरिका के इस रुख पर हमास का भी बयान सामने आया है. हमास के एक वरिष्ठ अधिकारी ओसामा हमदान ने बेरूत में संवाददाताओं से कहा कि बिडेन को “आक्रामकता रोकनी चाहिए और उन विचारों को सामने नहीं रखना चाहिए जिन्हें लागू नहीं किया जा सकता है।”

हमदान ने कहा कि गाजा का भविष्य फिलिस्तीनियों द्वारा तय किया जाएगा और अरब विदेश मंत्रियों को अमेरिकी राजनयिक को स्पष्ट रूप से बताना चाहिए कि ऐसा कोई अरब गठबंधन नहीं बनाया जा सकता जो फिलिस्तीनियों के खिलाफ हो।

टैग: अमेरिका, एंटनी ब्लिंकन, बेंजामिन नेतन्याहू, हमास, हमास का इजराइल पर हमला