गाजा में मानवीय सहायता के इंतजार में 100 से ज्यादा फिलीस्तीनियों की मौत से भारत दुखी / गाजा में मानवीय सहायता के इंतजार में 100 से ज्यादा फिलीस्तीनियों की मौत से भारत दुखी, विदेश मंत्रालय ने की ये अपील

छवि स्रोत: एपी
गाजा में भीड़ जमा हो गई.

गाजा में मानवीय सहायता की प्रतीक्षा कर रहे 100 से अधिक लोगों की मौत से भारत दुखी है। भारतीय विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि मानवीय सहायता वितरण के दौरान उत्तरी गाजा में लोगों की मौत से उसे “गहरा सदमा” लगा है। आपको बता दें कि भारत का यह बयान गुरुवार को गाजा में गोलीबारी की घटना में 100 से ज्यादा लोगों के मारे जाने और 700 से ज्यादा लोगों के घायल होने के एक दिन बाद आया है. विदेश मंत्रालय ने कड़े शब्दों में एक बयान में कहा कि जानमाल का यह नुकसान और गाजा में स्थिति “अत्यधिक चिंता” का कारण बनी हुई है।

विदेश मंत्रालय ने कहा, ”कल मानवीय सहायता पहुंचाने के दौरान उत्तरी गाजा में लोगों की मौत से हमें गहरा सदमा लगा है।” भारत ने गाजा के लोगों को सुरक्षित और समय पर मानवीय सहायता पहुंचाने का भी आह्वान किया। विदेश मंत्रालय ने कहा, “हम फिर से मानवीय सहायता की सुरक्षित और समय पर डिलीवरी का आह्वान करते हैं।” हालाँकि, बयान में इज़राइल का कोई उल्लेख नहीं किया गया। रिपोर्टों के अनुसार, गाजा में मानवीय सहायता काफिले से भोजन लेने की कोशिश कर रहे फिलिस्तीनियों की एक बड़ी भीड़ पर इजरायली सैनिकों द्वारा की गई गोलीबारी में 100 से अधिक लोग मारे गए और 700 से अधिक घायल हो गए।

संयुक्त राष्ट्र ने घटना की निंदा की

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने इस घटना की कड़ी निंदा की है. उन्होंने ट्विटर पर पोस्ट किया, “मैं गुरुवार को गाजा में हुई घटनाओं की निंदा करता हूं, जिसमें जीवन-रक्षक सहायता मांगते समय 100 से अधिक लोग कथित तौर पर मारे गए या घायल हो गए।” फिलिस्तीन की ओर से लगाए गए इस आरोप को इजरायली सेना ने खारिज कर दिया है. इजराइल का कहना है कि लोगों की मौत भगदड़ और कुचलने की वजह से हुई है. (भाषा)

ये भी पढ़ें

पुतिन के कट्टर विरोधी एलेक्सी नवलनी की अंतिम यात्रा में उमड़ी लोगों की भीड़, इन नारों से राष्ट्रपति को दिया बड़ा संदेश

‘पाकिस्तान में नई सरकार बने तो भी अमेरिका उसे मान्यता न दे’, जानें अमेरिकी सांसदों ने बाइडेन को क्यों लिखा ये पत्र

नवीनतम विश्व समाचार