गुजरात एटीएस ने आईएसआईएस के 4 आतंकियों को गिरफ्तार किया, खुलासा हुआ कि बीजेपी, आरएसएस सदस्यों, यहूदियों और ईसाइयों को सबक सिखाना चाहते थे

गुजरात एटीएस: गुजरात एटीएस को अहमदाबाद में बड़ी कामयाबी मिली है. इस दौरान एटीएस की टीम ने अहमदाबाद एयरपोर्ट से चार आईएसआईएस आतंकियों को गिरफ्तार किया. बताया जा रहा है कि गिरफ्तार किए गए ये चारों आतंकी श्रीलंकाई नागरिक हैं। फिलहाल एटीएस को उनके पास से एक गुलाबी पार्सल मिला है, जिसमें पाकिस्तान निर्मित पिस्तौल, गोलियां और एक काला झंडा मिला है. फिलहाल गिरफ्तार आतंकियों से पूछताछ जारी है.

जानकारी के मुताबिक, गुजरात के डीजीपी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि अहमदाबाद से गिरफ्तार किए गए इस्लामिक स्टेट के चारों आतंकी लोगों को निशाना बनाकर यहूदी, ईसाई, बीजेपी और आरएसएस को सबक सिखाना चाहते थे. एटीएस का कहना है कि इन आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि इनका मकसद मुस्लिम समुदाय के खिलाफ कथित अत्याचार करने वालों को सबक सिखाना है.

श्रीलंका से कनेक्शन

गुजरात एटीएस ने बताया कि इन चारों की पहचान मोहम्मद नुसरत, मोहम्मद फारिस, मोहम्मद रासदीन और मोहम्मद नफरान के रूप में की गई है. एटीएस ने बताया कि ये सभी आरोपी श्रीलंका के नागरिक हैं. गुजरात एटीएस ने बताया कि बरामद सामान से यह भी पता चला है कि चारों आईएसआईएस आतंकियों ने इस्लामिक स्टेट के बैनर तले भारत में कहीं आतंकी हमले की साजिश रची थी, जिसके लिए वे अहमदाबाद पहुंचे थे. वहीं, ”मोहम्मद नुसरथ के पास से पाकिस्तानी वीजा मिला है.

आतंकी हमले को अंजाम देने के लिए भारत आया था

इस मामले पर गुजरात के डीजीपी विकाश सहाय ने कहा कि ये चारों आतंकी चेन्नई से अहमदाबाद की फ्लाइट में सवार हुए थे. इन चारों की गिरफ्तारी दक्षिण से आने वाले यात्रियों की जानकारी और सूची की जांच के बाद की गई. डीजीपी ने कहा कि ये चारों पूरी तरह से आईएसआईएस की विचारधारा से कट्टरपंथी हैं और आतंकी हमले को अंजाम देने के लिए भारत आए थे।

चारों आतंकी एक ही पीएनआर पर कोलंबो में यात्रा कर रहे थे-डीजीपी

जानकारी के मुताबिक उन्हें 18 या 19 मई को रेलवे या फ्लाइट से अहमदाबाद पहुंचना था. मिली जानकारी के आधार पर जाल बनाया गया. जिसके बाद दक्षिण से आने वाली ट्रेनों और उड़ानों की यात्री सूची की जांच की गई. डीजीपी ने कहा कि ये सभी यात्री एक ही पीएनआर नंबर पर कोलंबो में यात्रा कर रहे थे.

यह भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2024: ‘अभी सात और घोटालों की होगी जांच’, दिल्ली में वोटिंग से पहले केजरीवाल का जिक्र करते हुए अमित शाह ने क्यों कही ये बात?