गुब्बारों की जगह लाउडस्पीकर, दक्षिण और उत्तर कोरिया के बीच शुरू हो गया अनोखा युद्ध

छवि स्रोत : एएनआई
उत्तर कोरिया गुब्बारे

दक्षिण कोरिया ने उत्तर कोरिया से लगी सीमा पर लाउडस्पीकर लगाकर अपने पड़ोसी देश के खिलाफ दुष्प्रचार करने का फैसला किया है। दक्षिण कोरिया के इस फैसले से दोनों देशों के बीच हालात और खराब हो सकते हैं। इससे पहले 2015 में भी दक्षिण कोरिया ने ऐसा किया था और इससे भड़के उत्तर कोरिया ने गोले दागे थे। दक्षिण कोरिया ने भी जवाबी कार्रवाई की थी। हालांकि, इसमें किसी की मौत नहीं हुई थी। अब एक बार फिर दोनों देशों के बीच हालात बिगड़ रहे हैं।

दक्षिण कोरिया और उत्तर कोरिया लंबे समय से दुश्मन हैं और एक दूसरे के खिलाफ दुष्प्रचार करते रहते हैं। दक्षिण कोरिया ने गुब्बारों के जरिए पर्चे भेजे थे, जिन पर उत्तर कोरिया के खिलाफ लिखा था। इसके जवाब में उत्तर कोरिया ने दक्षिण कोरिया को कचरे से भरे 1000 से ज्यादा गुब्बारे भेजे हैं। अब इसका जवाब देने के लिए दक्षिण कोरिया ने सीमा पर लाउडस्पीकर के जरिए उत्तर कोरिया के खिलाफ दुष्प्रचार करने का फैसला किया है।

लाउड स्पीकर पर क्या बजेगा?

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशक चांग हो-जिन की अध्यक्षता में एक आपातकालीन सुरक्षा बैठक के बाद, अधिकारियों ने सीमावर्ती क्षेत्रों में लाउडस्पीकर लगाने और प्रसारण शुरू करने पर सहमति जताई, सियोल के राष्ट्रपति कार्यालय ने रविवार को एक बयान में कहा। दक्षिण कोरिया दोनों देशों के बीच सीमा पर के-पॉप संगीत, बाहरी समाचार और प्योंगयांग विरोधी प्रसारण चलाने के लिए लाउडस्पीकर का उपयोग कर सकता है। पर्यवेक्षकों के अनुसार, उत्तर कोरिया इन प्रसारणों के प्रति विशेष रूप से संवेदनशील है।

उत्तर कोरिया ने 2015 में भी गोले दागे थे

दक्षिण कोरिया के अधिकारियों के अनुसार, 2015 में जब दक्षिण कोरिया ने 11 वर्षों में पहली बार लाउडस्पीकर प्रसारण फिर से शुरू किया, तो उत्तर कोरिया ने सीमा पार से तोपों से गोले दागे, जिसके बाद दक्षिण कोरिया ने जवाबी कार्रवाई की। हालाँकि, रिपोर्टों के अनुसार कोई हताहत नहीं हुआ।

नवीनतम विश्व समाचार