चीन की सेना ने दी चेतावनी, ‘ताइवान की आजादी का मतलब युद्ध’

छवि स्रोत : फ़ाइल एपी
चीन नौसेना

बीजिंग: चीन और ताइवान के बीच तनावपूर्ण संबंधों से पूरी दुनिया वाकिफ है। चीन ताइवान को अपना हिस्सा बताता है और उस पर कब्जा करना चाहता है। हाल ही में चीन ने ताइवान के समुद्री जल में युद्ध अभ्यास भी किया था। युद्ध अभ्यास खत्म होने के बाद चीनी सेना की ओर से बड़ा बयान दिया गया है। चीनी सेना ने कहा है कि ‘ताइवान की आजादी’ का मतलब युद्ध है। चीन ने गुरुवार को कहा कि वह द्वीप पर “अलगाववादी गतिविधियों” के समर्थन में विदेशी हस्तक्षेप को विफल करने के लिए तैयार है। चीनी सैन्य प्रवक्ता कर्नल वू कियान ने मीडिया से कहा कि चीन का एकीकरण इतिहास की एक अपरिवर्तनीय प्रवृत्ति है और पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) “ताइवान की किसी भी स्वतंत्रता” का जवाब देने के लिए तैयार है।

ताइवानी नेता के भाषण से चीन नाराज़

चीनी सैन्य प्रवक्ता ताइवान के नए नेता लाई चिंग-ते द्वारा 20 मई को द्वीप के नए राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण के दौरान दिए गए स्वतंत्रता समर्थक भाषण पर एक सवाल का जवाब दे रहे थे। लाई (64), जिन्हें विलियम लाई के नाम से भी जाना जाता है, ने इस साल जनवरी में राष्ट्रपति चुनाव जीतने के बाद स्वतंत्रता समर्थक डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (डीपीपी) के अपने सहयोगी त्साई इंग-वेन की जगह ली। लाई ने हाल ही में ताइपे में आयोजित एक समारोह में राष्ट्रपति पद की शपथ ली थी।

चीन क्या मानता है?

चीन ताइवान को विद्रोही प्रांत मानता है और कहता है कि इसे मुख्य भूमि के साथ फिर से एकीकृत किया जाना चाहिए, भले ही इसके लिए बल का उपयोग करना पड़े। लाई की डीपीपी पार्टी चीन से स्वतंत्रता नहीं चाहती है, लेकिन उनका मानना ​​है कि ताइवान पहले से ही एक संप्रभु राष्ट्र है। कर्नल वू ने कहा कि लाई का भाषण बलपूर्वक और बाहरी ताकतों पर भरोसा करके “ताइवान स्वतंत्रता” हासिल करने के उनके प्रयासों की स्वीकृति थी। उन्होंने कहा कि पीएलए इसका दृढ़ता से विरोध करता है और उसने कड़े जवाबी कदम उठाए हैं।

पीएलए तैयार है

वू ने कहा, “ताइवान की स्वतंत्रता की मांग करने वाली अलगाववादी गतिविधियाँ ताइवान जलडमरूमध्य में शांति के लिए सबसे बड़ा वास्तविक खतरा हैं।” वू ने कहा कि पीएलए राष्ट्रीय संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए एक मिशन पर काम कर रही है। उन्होंने कहा कि यह पूरी तरह से तैयार है, अत्यधिक सतर्क है, और “ताइवान की स्वतंत्रता” के किसी भी अलगाववादी प्रयास का मुकाबला करने और विदेशी हस्तक्षेप को विफल करने के लिए दृढ़ कार्रवाई करने के लिए तैयार है। (भाषा)

यह भी पढ़ें:

Israel Rafah Attack: इजरायली हमले में नागरिकों की मौत को भारत ने बताया ‘दिल दहला देने वाला’, कही बड़ी बात

इजराइल ने दो टूक कहा, ‘हमास ने हमारे लोगों को बंधक बनाया, उन्हें नर्क में रखा…हम लड़ाई बंद नहीं करेंगे’

नवीनतम विश्व समाचार