चीन के राजनयिक वांग यी ने विलियम लाई चिंग ते के चुनाव पर ताइवान को धमकी दी, क्योंकि राष्ट्रपति ने कठोर दंड देने का दावा किया | चीन-ताइवान विवाद: क्या ताइवान पर हमले की योजना बना रहा है चीन? ‘ड्रैगन’ ने दी धमकी, कहा

ताइवान के राष्ट्रपति विलियम लाई चिंग-ते: ताइवान की सत्तारूढ़ डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (डीपीपी) के विलियम लाई चिंग-ते के राष्ट्रपति चुनाव जीतने के बाद ‘ड्रैगन’ मुश्किल में है। ताइवान पर लगातार दावा कर रहे चीन ने चुनाव से पहले लोगों को लाई को वोट न देने की चेतावनी भी दी थी. इसके बावजूद ताइवान के नागरिकों ने ‘ड्रैगन’ के खतरे को नजरअंदाज किया और भारी बहुमत से जीत हासिल की. इसके बाद अब चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने ताइवान को लेकर धमकी जारी की है.

एचटी की रिपोर्ट के मुताबिक, विदेश मंत्री वांग यी ने दावा किया कि ताइवान हमेशा से चीन का अधीनस्थ क्षेत्र रहा है. इस कारण उसे कभी भी जोर-जबरदस्ती या बल प्रयोग से उसे अपने वश में करने की जरूरत महसूस नहीं हुई। इस संबंध में ऐसा कोई प्रयास नहीं किया गया. अब जब विलियम लाई राष्ट्रपति चुनाव जीत गए हैं तो ‘ड्रैगन’ ने साफ कहा है कि वहां चुनाव कराने और राष्ट्रपति चुनाव जीतने से चीन के साथ दोबारा विलय के उसके इरादे किसी भी तरह से नहीं बदलेंगे। .

इतना ही नहीं, चीनी विदेश मंत्री ने यह भी दावा किया कि ताइवान न तो पहले एक देश रहा है और न ही भविष्य में एक देश होगा।

चीन ने लाई चिंग-ते को बताया ‘खतरनाक अलगाववादी’

एएफपी की रिपोर्ट के मुताबिक, राष्ट्रपति चुनाव में विलियम लाई चिंग-ते की जीत से बौखलाए चीन ने धमकी दी है कि अगर किसी ने ताइवान की आजादी को लेकर कोई भी कदम उठाने की हिम्मत की तो उसे सख्त सजा दी जाएगी. चीन शुरू से ही लाई के खिलाफ बोलता रहा है और लोगों से कहता रहा है कि वह ‘खतरनाक अलगाववादी’ हैं।

ताइवान के लोगों ने चीन की बात नहीं मानी और एक स्वतंत्र देश और उसकी संप्रभुता की इच्छा व्यक्त करने वाले विलियम लाई को राष्ट्रपति चुनाव में भारी जीत दिलाई।

चीन ताइवान की आजादी की आवाजों को भांप रहा है

राष्ट्रपति चुनाव के बाद ताइवान द्वीप की आजादी की जोरदार मांग को भांपते हुए चीन ने यहां तक ​​कह दिया है कि अगर किसी ने इसके बारे में सोचने की कोशिश भी की तो उसे इसके परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं, ऐसे कदमों को चीन के क्षेत्र को विभाजित करने के प्रयासों के रूप में देखा जाएगा।

वांग यी का दावा- चुनाव नतीजों से नहीं बदलेगी हकीकत

वांग यी ने दोहराया कि चुनाव नतीजों से हकीकत पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा, चीन एक है और ताइवान उसका क्षेत्र है, चुनाव नतीजे इस हकीकत को नहीं बदल सकते.

चीन ने ताइवान जलडमरूमध्य क्षेत्र की शांति और स्थिरता का हवाला देते हुए यह भी चेतावनी दी कि यदि चीनी राष्ट्र के मौलिक हितों के खिलाफ कोई भी कदम उठाया गया तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं।

यह भी पढ़ें: चीन से लौटे मोहम्मद मुइज्जू ने फिर दिखाए अपने तेवर, भारत से 15 मार्च तक सेना हटाने को कहा