‘जब तक आरक्षण जारी रहना चाहिए…’ विपक्ष के हमलों के बीच RSS प्रमुख मोहन भागवत का बड़ा बयान

हैदराबाद. आरक्षण को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर विपक्ष के हमले के बीच आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने रविवार को कहा कि संगठन ने हमेशा संविधान के अनुसार आरक्षण का समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि संगठन तब तक आरक्षण जारी रखने की वकालत करता है जब तक ‘भेदभाव’ कायम है.

हैदराबाद में विद्या भारती विज्ञान केंद्र के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए भागवत ने सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो का जिक्र किया और कहा कि इसमें गलत दावा किया गया है कि आरएसएस आरक्षण का विरोध करता है। उन्होंने कहा कि वीडियो में उन्हें मीटिंग करते हुए दिखाया गया है, जबकि ऐसी कोई मीटिंग हुई ही नहीं.

‘संविधान के मुताबिक आरक्षण का संघ ने पूरा समर्थन किया’
आरएसएस प्रमुख ने कहा कि जब से आरक्षण अस्तित्व में आया है, संघ ने संविधान के अनुसार आरक्षण का पूरा समर्थन किया है. उन्होंने कहा, ‘संघ का कहना है कि आरक्षण तब तक जारी रहना चाहिए जब तक जिन लोगों को आरक्षण दिया गया है उन्हें लगता है कि उन्हें इसकी जरूरत है.’

यह भी पढ़ें- कांग्रेस ने जारी की नई लिस्ट, ओडिशा की 2 लोकसभा और 8 विधानसभा सीटों पर उम्मीदवारों का ऐलान

भागवत ने इस कथित वीडियो का जिक्र करते हुए कहा कि तकनीक और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से जो नहीं हुआ उसे भी दिखाया जा सकता है. आरक्षण को लेकर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस के बीच चल रही जुबानी जंग के बीच भागवत ने आरक्षण के समर्थन में टिप्पणी की है.

यह भी पढ़ें- आरक्षण पर गृह मंत्री अमित शाह का फर्जी वीडियो फैलाने के मामले में दिल्ली पुलिस की कार्रवाई, FIR दर्ज

राहुल गांधी ने बोला हमला
भागवत की टिप्पणी पर पलटवार करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रविवार को दावा किया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ आज कह रहा है कि वह आरक्षण के खिलाफ नहीं है, लेकिन पहले उसने कहा था कि वह आरक्षण का विरोध करेगा.

केंद्र शासित प्रदेश दमन और दीव में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए गांधी ने आरोप लगाया, ‘उन्होंने (मोहन भागवत) खुद बयान दिया था कि वह आरक्षण के खिलाफ हैं. जो लोग आरक्षण के खिलाफ हैं वे उनकी पार्टी (भाजपा) में शामिल हो रहे हैं। वह उन सभी का स्वागत करते हैं जो आरक्षण के खिलाफ हैं और फिर वह (भागवत) कहते हैं कि वह आरक्षण के खिलाफ नहीं हैं।

तेलंगाना के मुख्यमंत्री ए रेवंत रेड्डी ने शनिवार को आरोप लगाया था कि आरएसएस-बीजेपी आरक्षण का विरोध करती है.

टैग: लोकसभा चुनाव 2024, लोकसभा चुनाव, मोहन भागवत, आरक्षण