जीवन के सम्मान से ही शुरू हुआ खेल! सीएम योगी ने बनाया पूरा मास्टर प्लान, सौंपी जिम्मेदारी

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के राज्यसभा चुनाव के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का जादू देखने को मिला. योगी के मास्टर प्लान के चलते समाजवादी पार्टी के 7 विधायकों ने की क्रॉस वोटिंग. जिसके चलते बीजेपी के संजय सेठ ने जीत हासिल की. पिछले कई दिनों से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सपा विधायकों को अपने पाले में लाने की रणनीति बना रहे थे। इसके लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपनी सरकार के नंबर 2 मंत्री को जिम्मेदारी भी सौंपी थी.

योगी सरकार में वित्त मंत्री सुरेश खन्ना लगातार समाजवादी पार्टी के विधायकों के संपर्क में थे और उनसे बातचीत कर रहे थे. किसी को कानों-कान खबर तक नहीं हुई और टीम योगी ने राज्यसभा चुनाव के दौरान समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव के साथ खेल कर दिया। सपा विधायक मनोज पांडे, अभय सिंह, राकेश सिंह, पूजा पाल, राकेश पांडे काफी समय से अखिलेश यादव खेमे में असहज महसूस कर रहे थे। ये सभी विधायक अयोध्या में भगवान राम के दरबार में जाना चाहते थे. हालांकि, पार्टी मुखिया अखिलेश यादव की नीतियों ने इन 7 विधायकों को रोक लिया था.

ये भी पढ़ें:- हटाए जा सकते हैं हिमाचल के सीएम सुक्खू, राज्यसभा चुनाव में हार के बाद एक्शन में कांग्रेस आलाकमान! ये फैसला लिया

सपा विधायक रामदरबार आना चाहते थे
जब विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना के निमंत्रण पर सभी विधायकों को राम दरबार जाने का निमंत्रण दिया गया था. वहीं, इन सातों विधायकों ने सीएम योगी और सतीश महाना से अयोध्या में राम दरबार जाने की बात कही थी, लेकिन इन सभी का कहना था कि वे सपा की नीतियों के कारण नहीं जा रहे हैं. यहीं से सीएम योगी ने मास्टर प्लान तैयार किया. प्राण प्रतिष्ठा के समय से ही इन नाराज विधायकों को बीजेपी के पक्ष में वोट कराने की योजना बनाई गई थी.

समाजवादी पार्टी के विधायक महराजी प्रजापति वोट डालने नहीं आये. समाजवादी पार्टी के सात विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की, जिनके नाम इस प्रकार हैं.

  1. राकेश पांडे
  2. अभय सिंह
  3. राकेश प्रताप सिंह
  4. मनोज पांडे
  5. विनोद चतुवेर्दी
  6. पूजा पाल
  7. आशुतोष मौर्य

टैग:अखिलेश यादव, सीएम योगी आदित्यनाथ, राज्यसभा चुनाव