तीसरे विश्व युद्ध के खतरों के बीच जापान ने बड़े रक्षा बजट को मंजूरी दी, उत्तर कोरिया से लेकर चीन तक हड़कंप

छवि स्रोत: एपी
जापानी सेना.

रूस-यूक्रेन युद्ध, इजराइल-हमास युद्ध और उत्तर कोरिया-दक्षिण कोरिया तनाव तथा दक्षिण चीन सागर में चीन के बढ़ते प्रभुत्व से तीसरे विश्व युद्ध का खतरा बढ़ गया है। ऐसे में जापान पिछले कुछ सालों से लगातार अपने रक्षा बजट में बढ़ोतरी कर रहा है। इस बार भी जापान ने भारी भरकम रक्षा बजट को मंजूरी दी है. आपको बता दें कि जापान की कैबिनेट ने शुक्रवार को 2024 के लिए 56 बिलियन अमेरिकी डॉलर के रक्षा बजट योजना को मंजूरी दे दी, जो पिछले साल की तुलना में लगभग 16 प्रतिशत अधिक है। जापान के रक्षा बजट में इतनी भारी बढ़ोतरी से उत्तर कोरिया से लेकर चीन तक खलबली मच गई है. ये दोनों देश जापान के प्रमुख दुश्मन भी हैं।

गौरतलब है कि मार्च से शुरू होने वाले वित्तीय वर्ष के लिए 7.95 हजार अरब येन के बजट से उत्तर कोरिया और चीन तक मार करने में सक्षम लंबी दूरी की मिसाइलों की तैनाती में तेजी आएगी और सेना एफ-35 स्टील्थ लड़ाकू विमान और अन्य अमेरिकी हथियार खरीदेगी। वह मिलकर अपनी ताकत मजबूत कर सकेंगी. जापानी सेना अपने सहयोगियों के साथ मिलकर और अधिक आक्रामक रुख अपना रही है। जापान का वित्तीय वर्ष मार्च में शुरू होता है और प्रधान मंत्री फुमियो किशिदा की सरकार ने पांच साल के सैन्य शक्ति-निर्माण कार्यक्रम की घोषणा की है। वित्तीय वर्ष 2024 इस योजना का दूसरा वर्ष होगा। जापान केवल आत्मरक्षा के लिए सैन्य बल की नीति अपना रहा था, जिसे बदलकर अब वह अपनी शक्ति को मजबूत कर रहा है।

जापान 300 अरब डॉलर से अपनी सैन्य शक्ति बढ़ाएगा

जापान ने अपनी सैन्य शक्ति बढ़ाने के लिए 2027 तक 43 हजार अरब येन (300 अरब अमेरिकी डॉलर) खर्च करने की योजना बनाई है। इसके साथ ही जापान अमेरिका और चीन के बाद दुनिया का तीसरा ऐसा देश बन जाएगा जो अपनी सेना पर सबसे ज्यादा खर्च करता है। जापान ने अगले साल के रक्षा बजट में टाइप-12 क्रूज मिसाइलों और अमेरिका निर्मित टॉमहॉक्स के साथ-साथ अगली पीढ़ी की लंबी दूरी की मिसाइलों के विकास के लिए लगभग 734 बिलियन येन (5.15 बिलियन अमेरिकी डॉलर) निर्धारित किया है। जापान 3,000 किलोमीटर (1,864 मील) की रेंज वाली हाइपरसोनिक गाइडेड मिसाइल विकसित करने के लिए 80 बिलियन येन (562 मिलियन अमेरिकी डॉलर) से अधिक खर्च करेगा। (एपी)

ये भी पढ़ें

नवीनतम विश्व समाचार