दुनिया की सबसे बड़ी अदालत में इजराइल के खिलाफ सुनवाई शुरू, जानिए क्या हैं आरोप?

छवि स्रोत: एपी
बेंजामिन नेतन्याहू

हेग: संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष अदालत ने गाजा के दक्षिणी शहर राफा में इजरायल के सैन्य अभियान को रोकने के दक्षिण अफ्रीका के अनुरोध पर गुरुवार को सुनवाई शुरू की। ये सुनवाई दो दिनों तक होगी. यह चौथी बार है जब दक्षिण अफ्रीका ने अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) से आपातकालीन उपायों का अनुरोध किया है। दक्षिण अफ्रीका ने अदालत का रुख करते हुए आरोप लगाया है कि गाजा में हमास के साथ युद्ध में इजरायल की सैन्य कार्रवाई नरसंहार के बराबर है।

हालत ख़राब होती जा रही है

नई याचिका में कहा गया है कि हेग स्थित अदालत के पिछले आदेश “गाजा के लोगों की एकमात्र शरणस्थली पर बर्बर सैन्य हमले” को रोकने के लिए पर्याप्त नहीं थे। दक्षिण अफ़्रीका ने कहा है कि युद्धग्रस्त क्षेत्र में हालात लगातार ख़राब होते जा रहे हैं. नीदरलैंड में दक्षिण अफ़्रीका के राजदूत वुसिमुज़ी मैडोनसेला ने कहा, “इज़राइल का नरसंहार तेजी से जारी है और एक नए और भयावह चरण में प्रवेश कर गया है।”

इजराइल का इनकार

दक्षिण अफ्रीका ने अदालत से इजराइल को राफा से हटने का निर्देश देने और संयुक्त राष्ट्र के अधिकारियों, मानवीय संगठनों और पत्रकारों के लिए गाजा पट्टी तक निर्बाध पहुंच सुनिश्चित करने सहित उपाय करने का आग्रह किया है। इस साल की शुरुआत में सुनवाई के दौरान, इज़राइल ने गाजा में नरसंहार करने से दृढ़ता से इनकार किया और कहा कि उसने केवल हमास आतंकवादियों को निशाना बनाकर नागरिकों की रक्षा के लिए हर संभव प्रयास किया।

इस तरह युद्ध की शुरुआत हुई

युद्ध की शुरुआत पिछले साल 7 अक्टूबर को दक्षिणी इज़राइल में हमास के हमले से हुई थी जिसमें फ़िलिस्तीनी आतंकवादियों ने लगभग 1,200 लोगों की हत्या कर दी थी और लगभग 250 लोगों को बंधक बना लिया था। वहीं, गाजा के स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि युद्ध में 35,000 से ज्यादा फिलिस्तीनी मारे गए हैं. (एपी)

यह भी पढ़ें:

माहिरा खान के साथ भीड़ ने की बदसलूकी, पाकिस्तानी एक्ट्रेस बोलीं- ‘डरी हुई हूं…’

पाकिस्तान: सुप्रीम कोर्ट में इमरान खान के साथ खेला गया खेल, पक्ष रखने की इजाजत नहीं

नवीनतम विश्व समाचार