नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह से पहले एनडीए में दरार, सहयोगी अजित पवार ने हार के लिए बीजेपी नेता को ठहराया जिम्मेदार

एनडीए सरकार: महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने हाल ही में लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान शरद पवार पर राज्य के भारतीय जनता पार्टी के मंत्री चंद्रकांत पाटिल द्वारा की गई टिप्पणियों पर नाराजगी जताई है। मतदान पर नकारात्मक प्रभाव के लिए भाजपा मंत्री को दोषी ठहराते हुए अजित पवार ने कहा कि पाटिल को अपने चाचा के खिलाफ बयान नहीं देना चाहिए था। अजित पवार की पत्नी बारामती संसदीय क्षेत्र में सुप्रिया सुले से डेढ़ लाख से अधिक मतों के अंतर से हार गईं।

चंद्रकांत पाटिल ने क्या कहा?

शरद पवार के गढ़ बारामती में पत्रकारों को संबोधित करते हुए चंद्रकांत पाटिल ने उन्हें (शरद पवार को) हराने की अपनी मंशा साफ कर दी थी। उन्होंने एनसीपी के शीर्ष नेता पर 2019 (विधानसभा) चुनाव के जनादेश की अनदेखी करने का आरोप लगाया था, क्योंकि भाजपा-शिवसेना गठबंधन ने 161 सीटें जीती थीं, लेकिन उन्होंने शिवसेना को अपने साथ लाकर ऐसा किया। पाटिल ने चुनाव प्रचार के दौरान कहा था, “मैं और मेरी पार्टी के कार्यकर्ता चाहते हैं कि शरद पवार बारामती में हार जाएं और हमारे लिए यही काफी है।”

अजित पवार ने पाटिल के बयान को गलत बताया

तब अजीत पवार ने पाटिल के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था, “शरद पवार बारामती लोकसभा सीट से उम्मीदवार नहीं हैं। पाटिल ने यह गलत बयान दिया है। उनके इस बयान के बाद हमने उनसे बारामती में चुनाव न लड़ने को कहा है।” अजीत पवार ने गुरुवार को कहा, “मैंने तब भी यही कहा था और अब भी यही कह रहा हूं। लोगों को उनका (पाटिल का) यह बयान पसंद नहीं आया कि वह (शरद) पवार को हराने के लिए बारामती आए हैं।”

अजित पवार के इस नए बयान को चुनावी हार का ठीकरा इस संसदीय क्षेत्र में पाटिल के बयान से पैदा हुए नकारात्मक प्रभाव पर फोड़ने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। यहां आपको बता दें कि केंद्र में सरकार बनाने को लेकर भाजपा नीत एनडीए समूह लगातार बैठकें कर रहा है और इस बीच पवार के इस बयान को लेकर अटकलें शुरू हो गई हैं।

ये भी पढ़ें: राष्ट्रपति ने नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री नियुक्त किया, 9 जून को शाम 7:15 बजे शपथ लेने के लिए आमंत्रित किया