नैला पाकिस्तानी रिएक्शन वीडियो भारत का अगला प्रधानमंत्री कौन है नरेंद्र मोदी पर चर्चा पाकिस्तान में ध्यान

ध्यान: भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण से ठीक पहले ध्यान में चले गए हैं। फिलहाल वे कन्याकुमारी के विवेकानंद रॉक मेमोरियल में 45 घंटे के मौन व्रत पर हैं। इस खबर के बाद न सिर्फ भारत में राजनीतिक भूचाल आ गया है, बल्कि पाकिस्तान में भी यह मुद्दा चर्चा का विषय बन गया है। एक पाकिस्तानी यूट्यूबर ने बताया कि पीएम मोदी के ध्यान में जाने की तस्वीरें वहां सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रही हैं और लोग उनके बारे में क्या सोचते हैं।

पाकिस्तानी यूट्यूबर शैला खान ने भारतीय अधिवक्ता नाजिया इलाही खान से लोकसभा चुनाव 2024 और पीएम नरेंद्र मोदी के मौन व्रत को लेकर बात की। शैला खान ने कहा कि ऐसा लगता है कि जब तक कोई यह नहीं कह देता कि आप फिर से भारत के प्रधानमंत्री बन गए हैं, तब तक वे ध्यान में ही रहेंगे। भारत में विपक्ष मोदी के मौन व्रत को चुनावी स्टंट मान रहा है। दरअसल मौन व्रत रखकर नरेंद्र मोदी जनता को बताना चाहते हैं कि वे असली सनातनी हैं, ताकि आखिरी चरण के मतदान में भी वोट बैंक बढ़ाया जा सके।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी से विपक्ष परेशान

शैला खान के सवालों का जवाब देते हुए नाजिया इलाही खान ने कहा कि जब नरेंद्र मोदी बोलते हैं तो पूरी दुनिया सुनती है. जब नरेंद्र मोदी चुप हो जाते हैं तो दुनिया उनकी चुप्पी की वजह तलाशने लगती है. इसी तरह भारत का विपक्ष भी अपनी आवाज उठा रहा है. भारत के विपक्ष को पीएम मोदी के बोलने से दिक्कत है और अब अगर वो चुप हैं तो उन्हें इससे भी दिक्कत है. नरेंद्र मोदी के लिए ये कोई नई बात नहीं है. वो बीच-बीच में ध्यान लगाते रहते हैं.

“राहुल गांधी मुसलमानों को बांटना चाहते हैं”

नाजिया इलाही खान के अनुसार भारत में विपक्ष बहुत कमजोर हो चुका है। राहुल गांधी को भारतीय संस्कृति के बारे में कुछ भी नहीं पता। अब वह भारत के मुसलमानों को एससी/एसटी और ओबीसी में बांटना चाहते हैं। कांग्रेस हमेशा से जाति की राजनीति करती रही है। अब राहुल गांधी इसे और बढ़ाना चाहते हैं। पूरे देश की सभी विपक्षी पार्टियां एक तरफ हैं और नरेंद्र मोदी अकेले उन्हें चुनौती दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें: India-Maldives Relationships: मालदीव के रुख में बड़ा बदलाव, सिंगापुर जाकर करने लगा भारत की तारीफ