पंजाब में ईडी ने अवैध खनन मामले में 4 करोड़ रुपये से अधिक नकदी बरामद की

पंजाब में ईडी की कार्रवाई: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने ड्रग्स से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जांच के सिलसिले में बुधवार (29 मई) को पंजाब में कई जगहों पर छापेमारी की। आधिकारिक सूत्रों ने जानकारी देते हुए बताया कि इस मामले में जगदीश सिंह उर्फ ​​भोला मुख्य आरोपी है। एजेंसी ने इस छापेमारी के दौरान करीब 4 करोड़ 6 लाख रुपये की नकदी जब्त की है।

सूत्रों के मुताबिक, रूपनगर जिले में कुल 13 ठिकानों पर छापेमारी की गई। छापेमारी के दौरान कई अहम दस्तावेज भी बरामद किए गए। इन दस्तावेजों से पता चला है कि अवैध खनन से कमाए गए पैसे को किस तरह आगे बांटा जाता था। सूत्रों के मुताबिक, ईडी जल्द ही इस मामले में पंजाब के कई सरकारी अधिकारियों से पूछताछ कर सकती है।

एजेंसी द्वारा जब्त की गई जमीन पर अवैध खनन चल रहा था

यह कार्रवाई तब की गई जब ईडी ने अपनी जांच में पाया कि भोला मामले में एजेंसी द्वारा जब्त की गई जमीन पर ‘अवैध’ खनन किया जा रहा था। सूत्रों ने बताया कि इस कथित अवैध खनन मामले में कुछ आरोपियों में ‘नसीब चंद और श्री राम क्रशर’ और अन्य शामिल हैं। पंजाब में ड्रग्स से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग का यह मामला करोड़ों रुपये के ड्रग गिरोह से जुड़ा है, जिसका भंडाफोड़ पुलिस ने 2013-14 के दौरान किया था।

यह मामला भोला ड्रग्स केस के नाम से प्रसिद्ध है

ईडी ने पंजाब पुलिस द्वारा दर्ज की गई एफआईआर के आधार पर मामला दर्ज किया था। इस मामले को आमतौर पर ‘भोला’ ड्रग केस के नाम से जाना जाता है क्योंकि इस मामले में कथित मुख्य आरोपी पहलवान से पुलिसवाला और फिर नारकोटिक्स माफिया बने जगदीश सिंह उर्फ ​​भोला की संलिप्तता सामने आई थी। भोला को ईडी ने जनवरी 2014 में गिरफ्तार किया था।

यह भी पढ़ें: ABP न्यूज पर पीएम मोदी: 2004 से 2014 तक ED ने सिर्फ 34 लाख रुपये जब्त किए, पिछले 10 साल में 2200 करोड़ जब्त, पीएम मोदी ने बताया आंकड़ा