पाकिस्तान: इमरान खान और पूर्व विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी को राहत, सिफर मामले में कोर्ट ने किया बरी

छवि स्रोत : फ़ाइल एपी
इमरान खान

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान को फिर बड़ी राहत मिली है। इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने सिफर मामले में खान और पूर्व विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी को बरी कर दिया है। इससे पहले सोमवार सुबह इस्लामाबाद की जिला एवं सत्र अदालत ने ‘हकीकी आजादी’ मार्च के दौरान तोड़फोड़ के दो मामलों में खान और कुरैशी समेत अन्य नेताओं को बरी कर दिया था। 71 वर्षीय पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के संस्थापक इमरान खान इन मामलों में दोषी ठहराए जाने के बाद पिछले साल अगस्त से जेल में हैं।

सिफर केस क्या है?

इमरान और शाह महमूद कुरैशी के खिलाफ सिफर का यह मामला राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा है। इमरान खान पर बेहद गोपनीय जानकारी को निजी इस्तेमाल के लिए इस्तेमाल करने का आरोप है। सत्ता से बेदखल होने के बाद इमरान ने आरोप लगाया था कि उन्हें सत्ता से बेदखल करने के पीछे अमेरिका का हाथ है। इसके लिए इमरान ने कहा था कि वॉशिंगटन स्थित पाक दूतावास ने उन्हें केबल (टेप या गुप्त सूचना) भेजी थी। इमरान खान ने अपने राजनीतिक फायदे के लिए एक विवादित कूटनीतिक बातचीत को सार्वजनिक कर दिया था। इसे ‘सिफर’ कहा गया।

न्यायालय से राहत

‘एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ अख़बार की रिपोर्ट के अनुसार, इस्लामाबाद की जिला और सत्र अदालत ने ‘हक़ीक़ी आज़ादी’ मार्च के दौरान तोड़फोड़ के दो मामलों में ख़ान, पूर्व विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी, पूर्व संचार मंत्री मुराद सईद और अन्य पीटीआई नेताओं को बरी कर दिया है। मई 2022 में ख़ान ने शाहबाज़ शरीफ़ के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार को गिराने के लिए लाहौर से इस्लामाबाद तक मार्च शुरू किया था। ख़ान के अविश्वास प्रस्ताव हारने के बाद शरीफ़ के नेतृत्व में यह सरकार बनी थी।

150 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज

यह रैली ‘हकीकी आजादी’ (वास्तविक स्वतंत्रता) हासिल करने और राष्ट्र को ‘अमेरिका समर्थित’ गठबंधन सरकार की ‘गुलामी’ से मुक्त करने के लिए पीटीआई के संघर्ष का हिस्सा थी। उस समय, इस्लामाबाद पुलिस ने राजधानी में आगजनी और तोड़फोड़ के आरोप में खान, कुरैशी और पार्टी के अन्य नेताओं सहित 150 लोगों के खिलाफ अलग-अलग मामले दर्ज किए थे। इस महीने की शुरुआत में, इस्लामाबाद में एक न्यायिक मजिस्ट्रेट ने 2022 में उनकी पार्टी के दो ‘लॉन्ग मार्च’ के दौरान तोड़फोड़ के दो मामलों में खान को बरी कर दिया था। (भाषा)

यह भी पढ़ें:

पाकिस्तान में ईसाइयों के खिलाफ क्रूरता, घरों को जलाया गया और फिर लूटा गया…और फिर

उत्तर कोरिया की ‘कचरा’ हरकत से दक्षिण कोरिया भड़का, जवाब में उठाया बड़ा कदम

नवीनतम विश्व समाचार