पाकिस्तान के इशारे पर भारत को दहलाने आए थे 4 श्रीलंकाई संदिग्ध ISIS आतंकी, गिरफ्तारी के बाद कोलंबो ने कही ये बात

छवि स्रोत : एपी
श्रीलंका के राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे प्रधानमंत्री मोदी के साथ। (फाइल)

कोलंबो: भारत ने पिछले हफ़्ते गुजरात में श्रीलंका के चार ISIS संदिग्धों को गिरफ़्तार किया था। ISIS संदिग्धों के श्रीलंका के निवासी होने की जानकारी मिलने के बाद भारत ने वहां की सरकार को भी इसकी जानकारी दी थी। अब श्रीलंका सरकार ने सोमवार को कहा कि पिछले हफ़्ते अहमदाबाद एयरपोर्ट पर गिरफ़्तार किए गए चार श्रीलंकाई ISIS संदिग्धों के ख़िलाफ़ कार्रवाई के बारे में भारत फ़ैसला करेगा, जबकि यहां के अधिकारी इस बात की जांच करेंगे कि वे द्वीप राष्ट्र में आतंकवादी गतिविधियों में शामिल थे या नहीं।

19 मई को गुजरात आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने प्रतिबंधित इस्लामिक स्टेट (आईएस) संगठन से जुड़े चार श्रीलंकाई नागरिकों को गिरफ्तार किया, जो कथित तौर पर अपने पाकिस्तान स्थित आकाओं के निर्देश पर आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए भारत आए थे। चारों लोगों ने 19 मई को कोलंबो से चेन्नई के लिए इंडिगो की फ्लाइट ली थी। श्रीलंका के कानून मंत्री विजयदास राजपक्षे ने यहां संवाददाताओं से कहा, “भारत उनके (गिरफ्तार संदिग्धों) से अपने कानून के अनुसार निपटेगा।

श्रीलंका ने कहा कि वह मामले की जांच करेगा

श्रीलंका इस बात की जांच करेगा कि क्या उन्होंने यहां रहते हुए किसी आतंकवादी कृत्य में भाग लिया है या किसी समूह की सहायता की है।” पिछले सप्ताह श्रीलंकाई अधिकारियों ने गुजरात में गिरफ्तार चार श्रीलंकाई लोगों की जांच के लिए एक उच्च स्तरीय अभियान शुरू किया था। श्रीलंकाई पुलिस ने पिछले गुरुवार को गिरफ्तार किए गए चार आईएसआईएस संदिग्धों के एक सहयोगी को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने कहा था कि संदिग्धों का सहयोगी एक ड्रग तस्कर का बेटा है, जिससे पूछताछ की जा रही है। (भाषा)

यह भी पढ़ें

बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना ने खालिद जिया के बेटे को विदेश से लाकर सजा दिलाने की कसम खाई, जानें पूरा मामला



पापुआ न्यू गिनी में मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है, भूस्खलन के कारण मलबे में दबकर 2,000 से अधिक लोगों की मौत हो गई

नवीनतम विश्व समाचार