पाकिस्तान से आए थे 4 आतंकी, लश्कर से कनेक्शन…वैष्णो देवी जा रही बस पर हमले की कैसे रची गई साजिश?

रियासी. जम्मू-कश्मीर के रियासी जिले में रविवार शाम को आतंकवादियों ने तीर्थयात्रियों को ले जा रही एक बस पर गोलीबारी की, जिसमें नौ लोगों की मौत हो गई और 33 अन्य घायल हो गए। पुलिस ने यह जानकारी दी। खुफिया एजेंसी के सूत्रों के मुताबिक यह हमला कुछ साल पहले अमरनाथ यात्रा पर हुए हमले की तर्ज पर किया गया, जो पिछले एक दशक में जम्मू में हुआ सबसे बड़ा आतंकवादी हमला था।

अब तक मिली जानकारी के मुताबिक लश्कर के समर्थक संगठन ने इस बड़े आतंकी हमले को अंजाम दिया है। हमलावरों की संख्या 3 से 4 होने की आशंका है, जिनके कुछ दिन पहले ही पाकिस्तान से भारत में घुसने का संदेह है। आतंकियों का पहला मकसद श्रद्धालुओं पर अंधाधुंध फायरिंग करना था, जिसके बाद बस अपना संतुलन खोकर दुर्घटनाग्रस्त हो जाए और ठीक ऐसा ही हुआ।

रियासी में कुछ दिन पहले हुए बस हादसे को ध्यान में रखते हुए आतंकियों ने इस हमले की योजना बनाई और श्रद्धालुओं से भरी बस को निशाना बनाया। शिव खोड़ी मंदिर से कटरा जा रही 53 सीटर बस गोलीबारी के बाद गहरी खाई में गिर गई। यह हादसा शाम करीब सवा छह बजे पोनी इलाके के तेरयाथ गांव के पास हुआ।

रियासी की वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मोहिता शर्मा ने संवाददाताओं को बताया, “नौ तीर्थयात्री मारे गए और 33 अन्य घायल हो गए।” यह हमला क्षेत्र में हिंसा में चिंताजनक वृद्धि को दर्शाता है। राजौरी और पुंछ जैसे पड़ोसी क्षेत्रों की तुलना में रियासी जिला आतंकवादी गतिविधियों से अपेक्षाकृत अछूता रहा है।

टैग: अमरनाथ यात्रा, जम्मू कश्मीर, माता वैष्णो देवी, वैष्णो देवी