पीओके हिंसा: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के लिए 6.8 करोड़ डॉलर के तत्काल प्रावधान को मंजूरी दी

पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर: पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की राजधानी मुजफ्फराबाद में बिजली और आटे की बढ़ती कीमतों को लेकर हड़ताल आज चौथे दिन भी जारी रही. इस बीच पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ ने बड़ा फैसला लिया है. पाक पीएम ने आजाद जम्मू-कश्मीर के लिए 68 मिलियन डॉलर के राहत पैकेज का ऐलान किया है. हालांकि, पीएम शाहबाज शरीफ ने पीओके में हो रहे विरोध प्रदर्शनों को लेकर चिंता जताई थी.

शाहबाज शरीफ ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर लिखते हुए कहा था कि वह आजाद जम्मू-कश्मीर के हालात को लेकर बेहद चिंतित हैं। उन्होंने कहा था कि दुर्भाग्य से अराजकता और असहमति की स्थितियों में हमेशा कुछ लोग ऐसे होते हैं जो राजनीतिक लाभ लेने के लिए दौड़ पड़ते हैं। जबकि बहस, चर्चा और शांतिपूर्ण विरोध लोकतंत्र की सुंदरता है। इस दौरान शरीफ ने कहा कि कानून को अपने हाथ में लेना और सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाना बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए.

मामला जल्द सुलझा लिया जाएगा- पीएम शरीफ

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा, ”मैंने आज़ाद जम्मू-कश्मीर के पीएम से बात की है. इसके साथ ही मैंने आज़ाद कश्मीर के सभी पीएमएल-एन पदाधिकारियों को एक्शन कमेटी के नेताओं से बात करने का निर्देश दिया है. मैं सभी पक्षों से अपील करता हूं मेरी मांगें पूरी करने के लिए।” मैं आपसे शांतिपूर्ण तरीके से कार्रवाई करने का आग्रह करता हूं और आशा करता हूं कि विरोधियों की तमाम कोशिशों के बावजूद मामला जल्द ही सुलझ जाएगा.”

विरोध के बीच जमकर झड़प हुई

इस बीच, पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की राजधानी मुजफ्फराबाद में सुरक्षा बलों और प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसक झड़प के बाद पाकिस्तान सरकार ने स्थिति को नियंत्रित करने के प्रयास तेज कर दिए हैं. पिछले शनिवार को पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पें हुईं, जिसमें एक पुलिस अधिकारी की मौत हो गई और 100 से ज्यादा लोग गंभीर रूप से घायल हो गए. इनमें कई पुलिसकर्मी भी शामिल हैं. वहीं, प्रदर्शनकारियों और राज्य सरकार के बीच बातचीत विफल होने के बाद पीएम शाहबाज शरीफ ने उच्च स्तरीय बैठक बुलाई थी.

POK में किन मांगों को लेकर हो रहा है विरोध प्रदर्शन?

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के लोग आटे और बिजली की बढ़ी कीमतों और बढ़ती महंगाई के खिलाफ पांच दिनों से सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं. दरअसल, जम्मू-कश्मीर ज्वाइंट अवामी एक्शन कमेटी के नेतृत्व में पीओके की राजधानी मुजफ्फराबाद में एक लंबा मार्च निकाला गया. जेएएसी कोर कमेटी के लोगों का कहना है कि बातचीत में कोई समाधान नहीं निकलने के बाद प्रदर्शनकारियों ने मुजफ्फराबाद की ओर मार्च करने का फैसला किया था.

यह भी पढ़ें: PoK में पुलिस ज्यादती पर लोगों का गुस्सा, विरोध के बीच तीखी झड़प