पीपीपी प्रमुख बिलावल भुट्टो ने मुल्तान में चुनावी रैली के दौरान नवाज शरीफ पर निशाना साधा

पाकिस्तान चुनाव: चुनाव नजदीक आते ही पाकिस्तान में नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है. मुल्तान में एक राजनीतिक रैली के दौरान पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के प्रमुख बिलावल भुट्टो-जरदारी ने नवाज शरीफ को जमकर घेरा. इस दौरान उन्होंने खुली बहस की चुनौती भी दी.

एक रिपोर्ट के मुताबिक, बिलावल भुट्टो-जरदारी ने पीएमएल-एन पार्टी के नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा- ये लोग सोचते हैं कि उन्होंने मैच फिक्स किया है, लेकिन हम ऐसा नहीं होने देंगे. इस दौरान उन्होंने कहा कि इस बार 8 फरवरी को होने वाले चुनाव में ‘तीर शेर का शिकार करेगा.’ दरअसल, पाकिस्तान पीपल्स पार्टी का चुनाव चिन्ह तीर है और पीएमएल-एन पार्टी का चुनाव चिन्ह शेर है. जनता को संबोधित करते हुए जरदारी ने कहा कि देश को बचाने के लिए हमें पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी को वोट देना होगा.

बिलावल ने खुली बहस की चुनौती दी
भुट्टो-जरदारी ने कहा कि पीएमएल-एन नेता अपने घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं. वे मतदाताओं तक पहुंचे बिना चुनाव जीतना चाहते हैं, उन्हें लगता है कि उन्होंने मैच फिक्स कर दिया है, लेकिन यह सच नहीं है। बिलावल ने एक्स पर एक पोस्ट के जरिए शरीफ को देश की समस्याओं पर खुली बहस करने की चुनौती दी है। बिलावल ने कहा कि पीएमएल-एन उम्मीदवार नवाज शरीफ को चुनाव से पहले खुली बहस में आगे आना चाहिए और अपनी योजनाओं पर चर्चा करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि विश्व स्तर पर, राष्ट्रपति और प्रधान मंत्री पद के उम्मीदवार टेलीविजन पर बहस में भाग लेते हैं, जिससे मतदाताओं को उनकी योजनाओं के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी मिलती है।

मुल्तान में रैली के दौरान बिलावल ने विपक्षी नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि ये लोग निजी फायदे के लिए विभाजन और नफरत को बढ़ावा देने का काम करते हैं. इनका ध्यान केवल कुर्सी पाने तक ही सीमित है, ये लोग देश की समस्याओं के प्रति उदासीन रवैया अपनाते हैं। बिलावल ने शरीफ पर निशाना साधते हुए कहा, ”जो राजनेता तीन बार प्रधानमंत्री पद पर रह चुके हैं, वह चौथी बार कुर्सी के लिए कोशिश कर रहे हैं.”

बिलावल पर घोषणापत्र की नकल करने का आरोप
रिपोर्ट के मुताबिक, पीएमएल-एन पार्टी द्वारा चुनावी घोषणापत्र जारी नहीं करने पर बिलावल ने कहा- पीएमएल-एन नेता पीपीपी के घोषणापत्र की नकल करने में लगे हैं. उनके पास अपना कोई चुनावी मुद्दा नहीं है. अपनी चुनावी रणनीति का खाका खींचते हुए बिलावल ने कहा कि देश में महंगाई और बेरोजगारी चरम पर है. पीपीपी को छोड़कर देश में किसी अन्य पार्टी के पास इन मुद्दों से निपटने के लिए कोई व्यापक योजना नहीं है।

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान में 11 संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार, बड़ी आतंकी साजिश नाकाम करने का दावा