पूरी दुनिया को थी इस बात की आशंका, पुतिन ने बताया यूक्रेन से युद्ध में परमाणु हथियारों के इस्तेमाल को लेकर क्या है फैसला

छवि स्रोत : पीटीआई
रूसी राष्ट्रपति पुतिन अपने सैन्य अधिकारियों के साथ।

सेंट पीटर्सबर्ग (रूस): रूस-यूक्रेन युद्ध में परमाणु हथियारों के इस्तेमाल को लेकर पूरी दुनिया आशंकित थी। राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने शुक्रवार को बड़ा बयान दिया है। पुतिन ने बताया है कि यूक्रेन युद्ध में वे परमाणु हथियारों का इस्तेमाल करेंगे या नहीं? … राष्ट्रपति ने कहा कि यूक्रेन में जीत हासिल करने के लिए रूस को परमाणु हथियारों का इस्तेमाल करने की कोई जरूरत नहीं है। क्रेमलिन की ओर से यह अब तक का सबसे मजबूत संकेत है कि द्वितीय विश्व युद्ध के बाद यूरोप का सबसे घातक संघर्ष परमाणु युद्ध की ओर नहीं ले जाएगा। पुतिन के इस ऐलान से पश्चिमी देशों समेत पूरी दुनिया ने राहत की सांस ली है।

बता दें कि जब पुतिन ने फरवरी 2022 में यूक्रेन में सेना भेजने का आदेश दिया था, तब उन्होंने कई मौकों पर कहा था कि रूस अपनी रक्षा के लिए जरूरत पड़ने पर परमाणु हथियारों का इस्तेमाल करेगा। हालांकि, पुतिन ने परमाणु हमला करने के इस विचार के लिए पश्चिमी देशों की टिप्पणियों को जिम्मेदार ठहराया था। लेकिन अब उन्होंने साफ कर दिया है कि यूक्रेन से युद्ध जीतने के लिए परमाणु हमले की कोई जरूरत नहीं है।

सेंट पीटर्सबर्ग इंटरनेशनल इकनोमिक फोरम के पूर्ण अधिवेशन में, प्रभावशाली रूसी विश्लेषक, मॉडरेटर सर्गेई कारागानोव ने पूछा कि क्या रूस को यूक्रेन पर परमाणु हथियार रखना चाहिए। इस पर पुतिन ने कहा कि ऐसे हथियार का इस्तेमाल करने की कोई ज़रूरत नहीं है।

परमाणु हथियारों का उपयोग केवल एक ही स्थिति में किया जा सकता है

पुतिन ने कहा कि वे फिलहाल यूक्रेन के खिलाफ युद्ध जीतने के लिए परमाणु हथियारों का इस्तेमाल नहीं करेंगे। लेकिन बेहद असाधारण परिस्थितियों में देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के लिए खतरा पैदा होने की स्थिति में इसका इस्तेमाल संभव है। हालांकि, मुझे नहीं लगता कि ऐसी स्थिति आएगी जब इसका इस्तेमाल जरूरी होगा। मॉस्को ने 2014 में यूक्रेन से क्रीमिया छीन लिया था। अब वह ज़ापोरिज़िया, खेरसॉन, लुहांस्क और डोनेट्स्क नामक चार अन्य यूक्रेनी क्षेत्रों को भी अपने देश का अभिन्न अंग मानता है। ऐसे में अगर कीव इन्हें वापस लेने का प्रयास करता है तो परमाणु हमले की संभावना बढ़ जाती है।

यूक्रेन ने ली यह शपथ

इस बीच, यूक्रेन ने क्रीमिया समेत अन्य रूसी ठिकानों पर ड्रोन और मिसाइल हमले बढ़ा दिए हैं। इसने अपने सभी क्षेत्रों से रूसी सेना को खदेड़ने की कसम भी खाई है। पुतिन ने कहा कि उन्होंने रूस के परमाणु सिद्धांत में बदलाव की संभावना से इनकार नहीं किया है, जिसमें वे परिस्थितियाँ भी शामिल हैं जिनके तहत परमाणु हथियारों का इस्तेमाल किया जा सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि अगर ज़रूरत पड़ी तो रूस परमाणु हथियारों का परीक्षण कर सकता है। हालाँकि, उन्हें फिलहाल ऐसा करने की कोई ज़रूरत नहीं दिखती। रूस के प्रमुख आर्थिक मंच पर परमाणु हमलों के बारे में सार्वजनिक बहस को क्रेमलिन द्वारा परमाणु आशंकाओं को कम करने के प्रयास के रूप में देखा जा रहा है।

हालांकि, रूसी और अमेरिकी राजनयिकों को अब डर है कि यूक्रेन युद्ध अपने सबसे खतरनाक दौर की ओर बढ़ रहा है। दुनिया के करीब 90% परमाणु हथियार रूस और अमेरिका के पास हैं। (रॉयटर्स)

नवीनतम विश्व समाचार