पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का पत्र- देश को बचाने का यह आखिरी मौका, मोदी ने पद की गरिमा गिराई

लोकसभा चुनाव 2024 के आखिरी चरण का पूरा फोकस उत्तरी राज्यों पंजाब और हिमाचल प्रदेश पर आ गया है। इन दोनों राज्यों की सभी सीटों पर 1 जून को उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल और ओडिशा के साथ मतदान है। इस बीच पूर्व प्रधानमंत्री और दिग्गज कांग्रेस नेता मनमोहन सिंह ने पंजाब के मतदाताओं को लुभाने के लिए एक भावुक पत्र लिखा है। इसके साथ ही उन्होंने मौजूदा पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और उन पर चुनाव प्रचार के दौरान नफरत भरे भाषण देकर पद की गरिमा के साथ-साथ सार्वजनिक संवाद को भी कम करने का आरोप लगाया।

मनमोहन सिंह ने पंजाब के मतदाताओं से अपील करते हुए दावा किया कि केवल कांग्रेस ही विकासोन्मुख प्रगतिशील भविष्य सुनिश्चित कर सकती है जहां लोकतंत्र और संविधान की रक्षा होगी। पंजाब के मतदाताओं को लिखे पत्र में वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने सशस्त्र बलों पर अग्निवीर योजना थोपने का भी आरोप लगाया और कहा कि भाजपा सोचती है कि देशभक्ति, वीरता और सेवा का मूल्य केवल चार साल है। यह उनके नकली राष्ट्रवाद को दर्शाता है।

द्वेषपूर्ण भाषण
मोदी पर निशाना साधते हुए सिंह ने कहा, “मैं इस चुनाव अभियान के दौरान राजनीतिक संवाद पर करीबी नजर रख रहा हूं। मोदी नफरत फैलाने वाले भाषण दे रहे हैं जो पूरी तरह से विभाजनकारी प्रकृति के हैं। मोदीजी पहले प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने सार्वजनिक संवाद की गरिमा को कम किया है और इस तरह प्रधानमंत्री पद की गंभीरता को कम किया है।”

पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा, ‘इससे ​​पहले किसी भी प्रधानमंत्री ने समाज के किसी खास वर्ग या विपक्ष को निशाना बनाने के उद्देश्य से इस तरह के घृणित, असंसदीय और असभ्य शब्दों का इस्तेमाल नहीं किया है। उन्होंने मेरे लिए भी कुछ गलत बयान दिए हैं। मैंने अपने जीवन में कभी भी एक समुदाय को दूसरे से अलग नहीं किया। इस पर पूरी तरह से भाजपा का कॉपीराइट है।’

मोदी ने सिंह पर आरोप लगाया था कि प्रधानमंत्री रहते हुए उन्होंने कहा था कि देश के संसाधनों पर पहला हक मुसलमानों का है। सिंह ने कहा कि भारत की जनता यह सब देख रही है। उन्होंने कहा, ‘अमानवीयकरण की यह कहानी अब अपने चरम पर पहुंच गई है। अब यह हमारा कर्तव्य है कि हम अपने प्यारे देश को इन विभाजनकारी ताकतों से बचाएं।’

टैग: डॉ. मनमोहन सिंह, लोकसभा चुनाव 2024, लोकसभा चुनाव