भारत की अर्थव्यवस्था पाकिस्तान से छोटी, मुद्रास्फीति दर 1960 से 1991 के तीन दशक तक उच्च, पाकिस्तान का जीडीपी भारत से बड़ा

एक तरफ भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है। देश की तेज रफ्तार को देखते हुए कई अंतरराष्ट्रीय संगठनों ने दावा किया है कि अगले साल तक यह चौथी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा और 2030 तक यह तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा। वहीं दूसरी तरफ हमारा पड़ोसी देश पाकिस्तान है, जो गले तक कर्ज में डूबा हुआ है। आम लोग महंगाई से परेशान हैं और साथ ही उसके पास सरकारी खर्च के लिए भी पैसे नहीं हैं। इस साल पाकिस्तान दिवालिया होने की कगार पर था, लेकिन अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) और उसके मित्र देशों ने उसे ऐसा होने से बचा लिया।

उसे चीन, संयुक्त अरब अमीरात, तुर्की और सऊदी अरब जैसे देशों से बार-बार मदद मांगनी पड़ रही है। प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ एक के बाद एक दौरे कर रहे हैं और दुनिया को अपनी दुर्दशा की कहानी सुनाकर मदद मांग रहे हैं, जिसके बाद कुछ देशों ने बड़ी मात्रा में धन भी दिया है। यूएई और सऊदी ने पाकिस्तान में कई अरब डॉलर का निवेश किया है।

वर्तमान में पाकिस्तान और भारत की स्थितियों में बहुत बड़ा अंतर है। विकास, महंगाई, जीडीपी के मामले में पाकिस्तान भारत के मुकाबले बहुत छोटा है, लेकिन अगर तीन दशक पहले दोनों देशों की स्थितियों को देखें तो हालात बिल्कुल उलट थे। पाकिस्तान एक बड़ी शक्ति था और आज वहां की स्थिति भारत जैसी ही थी।

1960 से 1991 के बीच के 30 सालों में भारत में महंगाई दर पाकिस्तान से कहीं ज़्यादा थी। हालांकि, इस दौरान कुछ साल ऐसे भी रहे, जब पाकिस्तान की महंगाई दर ज़्यादा रही, लेकिन दोनों देशों के बीच अंतर बहुत ज़्यादा नहीं रहा। पाकिस्तान में महंगाई दर चार सालों- 1960, 1970, 1977 और 1985 में ज़्यादा रही, लेकिन सिर्फ़ 1960 और 1977 ही ऐसे साल थे, जिनमें बड़ा अंतर देखा गया। बाकी दो सालों में पाकिस्तान बहुत कम अंतर से आगे रहा।




































वर्ष भारत में मुद्रास्फीति और उपभोक्ता मूल्य (प्रतिशत में) पाकिस्तान में मुद्रास्फीति और उपभोक्ता मूल्य (प्रतिशत में)
1960 1.78 6.95
1961 1.7 1.64
1962 3.63 -0.52
1963 2.95 1.46
1964 13.36 4.18
1965 9.47 5.57
1966 10.8 7.23
1967 13.06 6.81
1968 3.24 0.17
1969 -0.58 3.19
1970 5.09 5.35
1971 3.08 4.73
1972 6.44 5.18
1973 16.94 23.07
1974 28.6 26.66
1975 5.75 20.9
1976 -7.63 7.16
1977 8.31 10.13
1978 2.52 6.14
1979 6.28 8.27
1980 11.35 11.94
1981 13.11 11.88
1982 7.89 5.9
1983 11.87 6.86
1984 8.32 6.09
1985 5.56 5.61
1986 8.73 3.51
1987 8.8 4.68
1988 9.38 8.84
1989 7.07 7.84
1990 8.97 9.05
1991 13.87 11.79

जीडीपी की बात करें तो इस मामले में भी पाकिस्तान भारत से बड़ी ताकत था। 1961 से 1991 के बीच पाकिस्तान की जीडीपी ग्रोथ रेट हर साल 5 से 6 फीसदी के बीच रही। इनमें से तीन साल ऐसे भी रहे जब पाकिस्तान की ग्रोथ 10 फीसदी से ऊपर चली गई। वहीं, भारत की जीडीपी ग्रोथ रेट कई बार निगेटिव में चली गई।



































वर्ष भारत की जीडीपी वृद्धि दर (प्रतिशत में) पाकिस्तान की जीडीपी वृद्धि दर (प्रतिशत में)
1961 3.72 5.99
1962 2.93 4.48
1963 5.99 8.69
1964 7.45 7.57
1965 -2.64 10.42
1966 -0.06 5.79
1967 7.83 5.4
1968 3.39 7.23
1969 6.54 5.51
1970 5.16 11.35
1971 1.64 0.47
1972 -0.55 0.81
1973 3.3 7.06
1974 1.1 3.54
1975 9.15 4.21
1976 1.66 5.16
1977 7.25 3.95
1978 5.71 8.05
1979 -5.24 3.76
1980 6.74 10.22
1981 6.01 7.92
1982 3.48 6.54
1983 7.29 6.78
1984 3.82 5.07
1985 5.25 7.59
1986 4.78 5.5
1987 3.97 6.45
1988 9.63 7.63
1989 5.95 4.96
1990 5.53 5.06
1991 1.06 5.06

1991 के बाद हालात बदलने लगे और भारत पाकिस्तान से बड़ी ताकत बनकर उभरा। 2022 तक जीडीपी से लेकर महंगाई तक हर पहलू में भारत की स्थिति में काफी सुधार हुआ और पाकिस्तान गिरावट की ओर बढ़ने लगा।

यह भी पढ़ें:-
कभी भारत से बड़ी ताकत था पाकिस्तान, आज हर तरफ भीख के कटोरे की चर्चा, देखिए पिछले तीस सालों की दोनों देशों की बैलेंस शीट