भारत में सीट बंटवारे के फॉर्मूले पर जयराम रमेश ने साफ किया कांग्रेस का रुख, कहा- खुले दिमाग से और मुंह बंद करके आगे बढ़ेंगे | भारत गठबंधन में सीट बंटवारे पर क्या करेगी कांग्रेस? जयराम रमेश ने अपना रुख स्पष्ट करते हुए कहा

लोकसभा चुनाव 2024 के लिए विपक्षी दलों के भारत गठबंधन की आखिरी बैठक में भी सीट बंटवारे का फॉर्मूला तय नहीं हो सका. हालांकि, इस बैठक में यह बात सामने आई कि जनवरी के पहले हफ्ते तक सीट शेयरिंग का फॉर्मूला तय हो जाएगा. इस बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने भारत गठबंधन में सीट बंटवारे को लेकर बड़ा बयान दिया है.

सीट बंटवारे के मुद्दे पर जयराम रमेश ने कांग्रेस का रुख साफ कर दिया है. समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में उन्होंने कहा, ”सीट बंटवारे पर बातचीत होगी.” जो भी करना होगा हम करेंगे. अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग परिस्थितियां हैं, उन्हें ध्यान में रखते हुए सीट बंटवारे पर बात चल रही है.

‘हम खुले दिमाग और बंद मुंह से मामले को आगे बढ़ाएंगे’

कांग्रेस नेता ने कहा कि हम खुले दिमाग और बंद मुंह से ही सीट बंटवारे पर चर्चा को आगे बढ़ाएंगे. गौरतलब है कि कांग्रेस की पांच सदस्यीय राष्ट्रीय गठबंधन समिति 28 दिसंबर को होने वाली नागपुर रैली के बाद पार्टी की राज्य इकाइयों के साथ चर्चा करेगी. इसे लेकर क्या रणनीति अपनाई जाए, इस पर चर्चा के लिए राज्य इकाइयों के नेताओं को दिल्ली बुलाया गया है. गठबंधन 29 दिसंबर से.

सीट बंटवारे पर चर्चा के लिए राष्ट्रीय गठबंधन समिति का गठन

इंडिया अलायंस की चौथी बैठक के बाद, कांग्रेस ने इंडिया अलायंस में पार्टियों के साथ सीट-बंटवारे पर चर्चा करने के लिए पांच सदस्यीय राष्ट्रीय गठबंधन समिति का गठन किया था। इस कमेटी ने सीट बंटवारे से पहले अलग-अलग प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से चर्चा करने का फैसला किया है. राज्य के वरिष्ठ नेताओं से चर्चा के बाद जनवरी के पहले सप्ताह में समिति सहयोगी दलों के साथ सीट बंटवारे पर अंतिम बातचीत करेगी.

कमेटी में कौन-कौन शामिल?
लोकसभा चुनाव 2024 के मद्देनजर कांग्रेस ने 19 दिसंबर को 5 सदस्यीय कमेटी का गठन किया था. इस कमेटी की अध्यक्षता मोहन प्रकाश करेंगे. दो पूर्व मुख्यमंत्रियों अशोक गहलोत और भूपेश बघेल के साथ-साथ पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद और मुकुल वासनिक को भी समिति का हिस्सा बनाया गया है.

ये भी पढ़ें:

पत्नी ने नहीं रखा करवा चौथ का व्रत तो पति ने दायर की तलाक की याचिका, कोर्ट ने क्या दिया फैसला?