मेक्सिको में बंदरों की मौत मेक्सिको में तापमान 46 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया गर्मी से 138 बंदरों की मौत हो गई

मेक्सिको में बंदरों की मौत : दुनियाभर में लोग गर्मी का सामना कर रहे हैं. भारत के साथ-साथ विदेशों में भी तापमान 45 डिग्री सेल्सियस से ऊपर है. मेक्सिको में हालात बदतर हैं, यहां गर्मी के कारण जानवर मर रहे हैं. पिछले 6 दिनों में अत्यधिक गर्मी के कारण 138 बंदरों की मौत हो चुकी है. इन दिनों मेक्सिको में दिन का तापमान 46 डिग्री सेल्सियस तक रहता है। गर्मी में इन बंदरों को बचाने के लिए स्थानीय लोग भी एकजुट हो रहे हैं. मरने वाले बंदरों की प्रजाति हाउलर है, ये बंदर अपनी दहाड़ने वाली आवाज के लिए जाने जाते हैं। ये बंदर मैक्सिको के खाड़ी तटीय राज्य टबैस्को में मृत पाए गए।

26 लोगों की जान भी चली गई
स्थानीय प्रशासन के मुताबिक, 5 बंदरों को पशु चिकित्सालय ले जाया गया, उन्हें होश में लाने की कोशिश की गई, लेकिन सफलता नहीं मिली. डॉ. सर्जियो ने बताया कि ये बंदर डिहाइड्रेशन और बुखार के कारण गंभीर स्थिति में पहुंच गए। उन्हें लू भी लग गयी. मार्च से अब तक मैक्सिको में गर्मी के कारण 26 लोगों की मौत हो चुकी है। पशुचिकित्सकों का कहना है कि गर्मी के कारण सैकड़ों प्राइमेट मर गए हैं। आपको बता दें कि मंगलवार को मेक्सिको में अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. वहां अभी भी भीषण गर्मी पड़ने के आसार हैं.

बंदर पेड़ों से फलों की तरह गिर रहे थे

जानकारी के अनुसार, हाउलर बंदर 20 साल तक जीवित रह सकते हैं। इनके जबड़े बड़े होते हैं, दांत भयानक होते हैं, लेकिन ये अपनी तेज दहाड़ के लिए मशहूर हैं। वन्यजीव विभाग ने जमीन पर पाए गए करीब 138 जानवरों की गिनती की। इनकी मौत 5 मई से शुरू हुई, क्योंकि तब से गर्मी बहुत बढ़ गई है। विभाग ने कहा, बंदर पेड़ से सेब की तरह गिर रहे थे। कुछ ही मिनटों में उनकी मौत हो गई।

यह भी पढ़ें: बर्ड फ्लू न्यूज केस: इंसानों में ‘बर्ड फ्लू’ संक्रमण का पहला मामला आया सामने, भारत में हुआ संक्रमण! पढ़ें पूरी खबर