मोदी सरकार के शपथ ग्रहण समारोह पर G-20 जैसी सुरक्षा व्यवस्था, हवाई खतरे को देखते हुए अभेद्य किले में तब्दील हुई दिल्ली

नई दिल्ली। नरेंद्र मोदी सरकार का आज शाम शपथग्रहण होना है। इसे ध्यान में रखते हुए दिल्ली में जी-20 की तरह हवाई सुरक्षा व्यवस्था की गई है। शपथग्रहण समारोह तक दिल्ली को नो-फ्लाई जोन में तब्दील कर दिया गया है। इस पूरे ऑपरेशन पर इंटीग्रेटेड एयर कमांड एंड कंट्रोल सिस्टम के जरिए नजर रखी जा रही है। इतने कड़े इंतजाम इसलिए किए जा रहे हैं क्योंकि देश-विदेश के तमाम गणमान्य लोग लंबे समय तक राष्ट्रपति भवन के खुले आसमान के नीचे रहेंगे। सूत्रों के मुताबिक, किसी भी हवाई खतरे की आशंका को देखते हुए दिल्ली को अभेद्य किले में तब्दील कर दिया गया है।

पूरे शपथ ग्रहण समारोह के दौरान किसी भी तरह के हवाई हमले से निपटने के लिए दिल्ली और दिल्ली के आसपास के इलाकों में तैनात वायुसेना के एयर डिफेंस सिस्टम को सक्रिय कर दिया गया है। इसके तहत भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमान पश्चिमी सीमा यानी पाकिस्तान से लगी सीमा पर 24 घंटे लड़ाकू हवाई गश्त पर रहेंगे। इसके साथ ही लंबी, मध्यम और छोटी दूरी के सभी रडार लगातार किसी भी अवांछित हवाई खतरे पर नज़र रख रहे हैं।

पश्चिमी सीमा पर सभी एयरबेस को हाई अलर्ट पर रहने को कहा गया है और लड़ाकू विमान चंद मिनटों में ही किसी भी एयरबेस से उड़ान भरने के लिए तैयार रहेंगे। इसके अलावा AWACS (एयरबोर्न अर्ली वार्निंग एंड कंट्रोल सिस्टम) विमान भी लगातार उड़ान भरते रहेंगे। इसका काम निगरानी, ​​ट्रैकिंग, पहचान और वर्गीकरण करना है। यह सिस्टम बैलिस्टिक मिसाइलों का भी पता लगा सकता है।

नरेंद्र मोदी शपथ समारोह LIVE: न मांझी को किया गया फोन, न अनुप्रिया पटेल को किया गया आमंत्रित! मोदी कैबिनेट में किसे मिलेगी जगह? सस्पेंस गहराया

इसके अलावा वायुसेना के लड़ाकू विमान भी दिल्ली और उसके आसपास के आसमान पर लगातार नजर रखेंगे। वायुसेना की जिम्मेदारी है कि वह पूरे हवाई क्षेत्र को साफ और सुरक्षित रखे। इसके तहत आसमान में कोई भी कम ऊंचाई वाली वस्तु, विमान या ड्रोन जैसी कोई चीज नहीं होनी चाहिए। दिल्ली में आज और कल के लिए ऐसी सभी चीजों पर रोक लगा दी गई है।

टैग: मोदी कैबिनेट, नया मोदी मंत्रिमंडल, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समाचार