यूरोपीय संघ ने उठाया बड़ा कदम, उत्तर कोरिया पर लगाए नए प्रतिबंध… बताई ये वजह

छवि स्रोत : फ़ाइल एपी
यूरोपीय संघ

ब्रुसेल्स: यूरोपीय संघ (ईयू) ने बैलिस्टिक और परमाणु मिसाइलों को विकसित करने के अपने निरंतर प्रयासों और रूस को इसके समर्थन को लेकर उत्तर कोरिया पर और प्रतिबंध लगा दिए हैं। ईयू परिषद ने शुक्रवार को कहा कि इन यात्रा और संपत्ति प्रतिबंधों का असर नौ और लोगों और संस्थानों पर पड़ेगा। यूरोपीय देशों के इस संगठन ने उत्तर कोरिया के परमाणु और मिसाइल परीक्षणों को लेकर संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों की तर्ज पर 2006 में उत्तर कोरिया पर प्रतिबंध लगाना शुरू किया था। ईयू परिषद ने अब तक कुल 77 लोगों और 20 कंपनियों या संस्थानों पर प्रतिबंध लगाए हैं। ईयू ने कहा कि परिषद ने छह और लोगों और तीन निकायों पर प्रतिबंध लगाए हैं। उत्तर कोरिया ने इस साल कम से कम 22 मिसाइलों का प्रक्षेपण किया है।

उत्तर कोरिया ने यूक्रेन पर मिसाइलें दागीं

आपको बता दें कि, रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध को लेकर अमेरिका की ओर से कहा गया है कि रूस युद्ध में उत्तर कोरियाई हथियारों का इस्तेमाल कर रहा है। अब इसे लेकर पेंटागन की नई रिपोर्ट भी सामने आई है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि रूस यूक्रेन में उत्तर कोरियाई बैलिस्टिक मिसाइलों का इस्तेमाल कर रहा है। मलबे के विश्लेषण का हवाला देते हुए रिपोर्ट में उन आरोपों की पुष्टि की गई है कि प्योंगयांग मॉस्को को हथियार भेज रहा है।

रूस ने उत्तर कोरिया पर मिसाइलों से हमला किया

पेंटागन की रक्षा खुफिया एजेंसी की एक रिपोर्ट ने ओपन-सोर्स इमेजरी का उपयोग करके पुष्टि की है कि इस साल जनवरी में यूक्रेन के खार्किव क्षेत्र में पाया गया मलबा उत्तर कोरिया में बनी एक छोटी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल का था। रिपोर्ट के साथ जारी एक बयान में, डीआईए ने कहा, “विश्लेषण से पुष्टि होती है कि रूस ने यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में उत्तर कोरिया में बनी बैलिस्टिक मिसाइलों का इस्तेमाल किया है।” रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि यूक्रेन में उत्तर कोरियाई मिसाइलों का मलबा पाया गया है। (भाषा)

यह भी पढ़ें:

जर्मनी का यह कदम रूस-यूक्रेन युद्ध में ले सकता है भयानक मोड़, पुतिन पहले ही दे चुके हैं चेतावनी

पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने इमरान खान को मुंह बंद रखने की दी सलाह, जानें और क्या कहा

नवीनतम विश्व समाचार