‘यूरोप में इस्लाम के लिए कोई जगह नहीं…’, इटली की पीएम जॉर्जिया मेलोनी ने किया ऐलान

पर प्रकाश डाला गया

जॉर्जिया मेलोनी ने कहा कि इटली में बने इस्लामिक सांस्कृतिक केंद्रों को सऊदी अरब से पैसा मिलता है।
जॉर्जिया मेलोनी ने कहा कि यूरोप में हमारी सभ्यता के खिलाफ इस्लामीकरण की प्रक्रिया चल रही है.

रोम: इटली की प्रधानमंत्री जॉर्जिया मेलोनी इस्लाम पर अपने बयान को लेकर सुर्खियों में हैं। उन्होंने कहा कि इस्लामिक संस्कृति का यूरोप में कोई स्थान नहीं है. मेलोनी ने कहा, ‘यूरोप का इस्लामीकरण करने के बहुत प्रयास किए गए हैं, लेकिन इसके मूल्य यूरोपीय संस्कृति से मेल नहीं खाते हैं। यूरोपीय सभ्यता और इस्लामी संस्कृति के बारे में कई बातें बिल्कुल अलग हैं। मूल्यों और सत्ता की दृष्टि से भी बहुत अंतर है। ऐसी स्थिति में इस्लामी संस्कृति का यूरोप में कोई स्थान नहीं है।

इस्लामिक संस्कृति का उपहास करने के कारण विवादों में घिरे इटली के प्रधानमंत्री मेलोनी ने कहा, ‘इटली में बने इस्लामिक सांस्कृतिक केंद्रों को सऊदी अरब से पैसा मिलता है। सऊदी में शरिया लागू है. जॉर्जिया मेलोनी ने कहा, ‘यूरोप में हमारी सभ्यता के खिलाफ इस्लामीकरण की प्रक्रिया चल रही है.’ उनका यह बयान ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनक के उस बयान के बाद आया है, जिसमें उन्होंने कहा था, ‘यूरोप का संतुलन बिगाड़ने की कोशिश में कुछ देश जानबूझकर शरणार्थियों की संख्या बढ़ा रहे हैं।’

इटली की धुर दक्षिणपंथी पार्टी- ब्रदर्स ऑफ इटली द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने कहा था कि वह शरणार्थियों से जुड़ी नीति और व्यवस्था में वैश्विक सुधारों के पक्ष में हैं. उन्होंने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि शरणार्थियों की बढ़ती संख्या यूरोप के कई देशों को प्रभावित कर सकती है.

इसके अलावा ऋषि सुनक ने कहा था कि अगर यूरोप में शरणार्थियों की समस्या से निपटने के लिए कोई प्रयास नहीं किया गया तो उनकी संख्या बढ़ जाएगी. इससे हमारी क्षमता पर असर पड़ेगा, हम वास्तव में जरूरतमंद लोगों और देशों की मदद नहीं कर पाएंगे।’ ऋषि सुनक ने कार्यक्रम में यह भी दोहराया कि यूरोपीय देशों को अपने कानूनों को अपडेट करने की जरूरत है.

टैग: इटली, विश्व समाचार