राम मंदिर उद्घाटन विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने दिग्विजीय सिंह के बयान पर दिया जवाब

राम मंदिर का उद्घाटन: एक तरफ जहां देशभर में अयोध्या में बन रहे राम मंदिर के उद्घाटन की तैयारियां चल रही हैं. वहीं दूसरी ओर इसे लेकर राजनीति और बयानबाजी भी जारी है. विश्व हिंदू परिषद (VHP) के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने अब कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के मंदिर अधूरा होने वाले बयान पर प्रतिक्रिया दी है.

आलोक कुमार ने कहा कि दिग्विजय सिंह का बयान सच नहीं है. रामलला को ग्राउंड फ्लोर पर स्थापित करने का काम पूरा हो चुका है. प्राण प्रतिष्ठा का समय दोपहर 12:20 बजे तय किया गया है. यह कार्य पूरी तत्परता से किया जाएगा। मैंने कभी किसी निमंत्रण को इस आधार पर अस्वीकार होते नहीं देखा कि मंदिर अधूरा है।

उन्होंने आगे कहा कि तीनों शंकराचार्यों ने मंदिर के पूरा होने पर खुशी जताई है और प्राण-प्रतिष्ठा का स्वागत किया है.

‘कांग्रेस को अल्पसंख्यक वोट बैंक की चिंता’
आलोक कुमार ने आगे कहा, “वीएचपी ने इस आंदोलन का नेतृत्व किया. श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के पास 10 करोड़ घरों के लोगों को आमंत्रित करने के लिए कोई मशीनरी नहीं है. विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने डाकिया के रूप में काम किया. सभी को यह मदद करनी चाहिए थी, लेकिन अल्पसंख्यक वोट बैंक के कारण उन्होंने ऐसा किया.” ऐसा मत करो।”

दिग्विजय सिंह ने क्या कहा?
आपको बता दें कि कांग्रेस सांसद और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने गुरुवार (11 जनवरी) को पूछा था कि कितने आमंत्रित लोगों ने निमंत्रण स्वीकार किया है? किसी भी स्थापित धार्मिक नेता ने निमंत्रण स्वीकार नहीं किया। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार जिस मंदिर का निर्माण अधूरा हो, वहां किसी भी मूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा नहीं की जा सकती। इसे अशुभ माना जाता है.

उन्होंने कहा कि सिर्फ कांग्रेस ही नहीं बल्कि शिवसेना, राजद, जद (यू), टीएमसी, सीपीआई, सीपीआई (एम) को भी निमंत्रण मिला है. निम्नलिखित में से कौन समारोह में भाग ले रहा है? भगवान राम सबके हैं. हमें मंदिर जाकर खुशी होगी, लेकिन पहले मंदिर का निर्माण पूरा होना चाहिए.’ उन्होंने इसे बीजेपी का इवेंट बना दिया है.

ये भी पढ़ें- राहुल गांधी: ‘सत्ता के अहंकार में चूर हैं शहंशाह, जमीनी हकीकत से हैं कोसों दूर’, राहुल गांधी का बीजेपी पर हमला