राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल का कहना है कि भारत बहुत तेजी से बदल रहा है और अगले 10 वर्षों में यह 10 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था होगी | ‘भारत बहुत तेजी से बदल रहा है…’, एनएसए अजीत डोभाल ने कहा

एनएसए अजीत डोभाल: दिल्ली के विज्ञान भवन में सीमा सुरक्षा बल के एक कार्यक्रम के दौरान भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने कहा कि भारत बहुत तेजी से बदल रहा है और अगले 10 सालों में यह 10 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बन जाएगा। डोभाल ने कहा, यह भारत के लिए एक बड़ी उपलब्धि होगी और यह दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा। उन्होंने कहा कि भारत के पास दुनिया का सबसे बड़ा कार्यबल भी होगा।

दरअसल, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल नई दिल्ली के विज्ञान भवन में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के 21वें अलंकरण समारोह और रुस्तमजी स्मृति व्याख्यान पर आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने कहा, तकनीकी रूप से भारत सेमीकंडक्टर, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स, रक्षा और सुरक्षा समेत कई क्षेत्रों में सबसे उन्नत देश होगा। अजीत डोभाल ने देश की सीमाओं की रक्षा में बीएसएफ के योगदान की सराहना करते हुए कहा कि यह दुनिया का सबसे बड़ा सीमा सुरक्षा बल है।

हमें 24 घंटे, 7 दिन सतर्क रहना होगा- अजीत डोभाल

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने कहा कि निकट भविष्य में मुझे नहीं लगता कि हमारी सीमाएं उतनी सुरक्षित होंगी जितनी हमें तेज आर्थिक विकास के लिए चाहिए। इसलिए सीमाओं की रक्षा करने वाली सेनाओं पर जिम्मेदारी बहुत ज्यादा है। उन्हें लंबे समय तक 24 घंटे, 7 दिन अलर्ट रहना होगा। उन्हें यह देखना होगा कि हमारे राष्ट्रीय हित और देश सुरक्षित रहें।

अजीत डोभाल ने कहा कि सीमाएं महत्वपूर्ण हैं क्योंकि वे हमारी संप्रभुता को परिभाषित करती हैं। उन्होंने आगे कहा, ‘जमीन पर कब्जा हमारा है, बाकी काम कोर्ट और न्यायपालिका का है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।’

सीमाओं की सुरक्षा में बीएसएफ अग्रणी रही है- नितिन अग्रवाल

इस दौरान सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक नितिन अग्रवाल ने कहा कि देश की सीमाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने में बीएसएफ हमेशा सबसे आगे रही है। उन्होंने कहा कि यह सुरक्षा बल आधुनिक चुनौतियों से निपटने के लिए लगातार काम कर रहा है। आगे नितिन अग्रवाल ने कहा कि सीमा सुरक्षा सुनिश्चित करने के अलावा, बीएसएफ ने सद्भावना बनाने और सीमावर्ती आबादी का विश्वास हासिल करने के लिए चिकित्सा शिविर और खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन जैसे कई कार्यक्रम शुरू किए हैं।

यह भी पढ़ें: ओबीसी आरक्षण पर हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ ममता बनर्जी ने किया बड़ा ऐलान, बताया क्या होगा अगला कदम?