राहुल नहीं, मोदी ने केजरीवाल पर किया सबसे पहले हमला, ‘हाथ और झाड़ू’ की दोस्ती टूटने पर कहा, ये तो होना ही था

एनडीए संसदीय दल का नेता चुने जाने पर नरेंद्र मोदी ने अगले 10 साल की प्राथमिकताएं गिनाईं। उन्होंने अखिल भारतीय गठबंधन पर भी निशाना साधा। लेकिन उनका पहला निशाना अरविंद केजरीवाल रहे। मोदी ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस की दोस्ती टूटने पर तंज कसा। उन्होंने कहा, मैंने पहले ही कहा था कि ये सब लोग सत्ता के सुख के लिए साथ आए हैं। फोटो खिंचवाने के लिए साथ आए हैं। चुनाव के बाद बिखराव तय है। और देखिए, यही हो रहा है।

एनडीए गठबंधन और भारत गठबंधन के बीच अंतर का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा, एनडीए सिर्फ सत्ता पाने या सरकार चलाने के लिए कुछ दलों का जमावड़ा नहीं है। यह राष्ट्र प्रथम की मूल भावना के साथ राष्ट्र प्रथम के लिए प्रतिबद्ध एक समूह है। भारत के राजनीतिक इतिहास में, गठबंधनों के इतिहास में, चुनाव पूर्व गठबंधन कभी भी एनडीए जितना सफल नहीं रहा है। एनडीए गठबंधन सबसे सफल गठबंधन है।

मैंने पहले ही कहा था…
अखिल भारतीय गठबंधन पर तंज कसते हुए मोदी ने कहा, चुनाव के दौरान गठबंधन होने के बावजूद वे एक-दूसरे की पीठ में छुरा घोंपते रहे। इतने राज्यों में वे आपस में लड़ते रहे। एक बार उन्होंने कहा था कि यह वैचारिक गठबंधन है, विचारधारा ठीक है, लेकिन नीचे… फिर उन्होंने कहा, हम सीटों के आधार पर गठबंधन करेंगे, भले ही कुल न भी हो। आम आदमी पार्टी के दिल्ली में अलग से चुनाव लड़ने के ऐलान पर मोदी ने कहा, मैंने पहले ही कहा था कि यह 4 जून के बाद होगा। लोग अभी से कहने लगे हैं कि हमारा गठबंधन सिर्फ लोकसभा चुनाव के लिए था। बाद में नहीं। बिखराव शुरू हो गया है। इसका साफ मतलब है कि वे सिर्फ फोटो के लिए, सत्ता के सुख के लिए साथ आए थे।

गोपाल राय ने क्या कहा
आपको बता दें कि एक दिन पहले ही आम आदमी पार्टी के नेता गोपाल राय ने ऐलान किया था कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में कोई गठबंधन नहीं होगा। आप अकेले ही चुनाव लड़ेगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर पर हुई बैठक के बाद आप नेताओं ने इस संबंध में फैसला लिया। इसके बाद दिल्ली कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष देवेंद्र यादव ने भी यही बात कही। उन्होंने भी दोहराया कि कांग्रेस विधानसभा चुनाव में अकेले ही उतरेगी।

टैग: 2024 लोकसभा चुनाव, आप बनाम भाजपा, दिल्ली आप, नरेंद्र मोदी