रूस में राष्ट्रपति चुनाव के बीच बढ़ा तनाव, ईवीएस पर बड़ा साइबर हमला

मास्को. रूस में पहली बार इस्तेमाल किए जा रहे रिमोट इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग सिस्टम पर बड़े पैमाने पर साइबर हमला किया गया है। शनिवार को सिन्हुआ समाचार एजेंसी ने रूसी केंद्रीय चुनाव आयोग के प्रमुख एला पामफिलोवा के हवाले से कहा कि रिमोट इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग सिस्टम के निगरानी पोर्टल को निशाना बनाकर 30,000 हमले किए गए.

पैम्फिलोवा ने कहा कि शुक्रवार की तुलना में शनिवार को हमले बढ़ गए। मॉस्को में चुनाव निगरानी टीम के प्रमुख वादिम कोवालेव ने शनिवार को कहा कि ये हमले अमेरिका और ब्रिटेन से किए गए थे. कोवालेव ने कहा, ‘जिन सर्वरों से हमले हो रहे हैं उनमें से ज्यादातर अमेरिका और ब्रिटेन में स्थित हैं.’

यह भी पढ़ें- दिल्ली में 25 मई और पटना में 1 जून को वोटिंग… आपके क्षेत्र में लोकसभा चुनाव के लिए कब होगी वोटिंग? पूरी सूची देखें

रूस में राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान 15 मार्च को शुरू हुआ और 17 मार्च को समाप्त होगा। देश के कुछ हिस्सों में पहली बार रिमोट इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग शुरू की गई। इस चुनाव में भाग लेने वाले उम्मीदवार मौजूदा राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी के लियोनिद स्लटस्की हैं; रूसी कम्युनिस्ट पार्टी के निकोलाई खारितोनोव, न्यू पीपुल्स पार्टी के व्लादिस्लाव दावानकोव और एक स्वतंत्र उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं।

ये भी पढ़ें- सिद्धू मूसेवाला के घर फिर गूंजी किलकारियां, मां चरण कौर ने दिया बेटे को जन्म, पिता ने शेयर की तस्वीर

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, देशभर में 90 हजार से ज्यादा मतदान केंद्र बनाए गए हैं. सबसे पहले सुदूर पूर्व में स्थित कामचटका और चुकोटका में वोटिंग शुरू हुई. रूस के पश्चिमी छोर पर स्थित कलिनिनग्राद में सबसे आखिर में वोटिंग होगी.

रूसी केंद्रीय चुनाव आयोग द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, चुनाव में करीब 11 करोड़ मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकते हैं. चुनाव आयोग के मुताबिक चुनाव नतीजे 28 मार्च से पहले घोषित कर दिए जाएंगे.

टैग: चुनाव समाचार, रूस