रूस UNSC की स्थायी सदस्यता के लिए भारत का समर्थन करता है

छवि स्रोत: TWITTER.COM/DRSJAISHANKAR
रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव के साथ एस. जयशंकर.

मास्को: रूस ने बुधवार को कहा कि वह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य बनने की भारत की आकांक्षाओं का समर्थन करता है। रूस ने जी20 शिखर सम्मेलन में विवादास्पद मुद्दों से निपटने में भारत की सफलता की सराहना की और इसे अपनी विदेश नीति के लिए ‘सच्ची जीत’ बताया। आपको बता दें कि सुरक्षा परिषद में 5 स्थायी और 10 अस्थायी सदस्य होते हैं. भारत लंबे समय से यूएनएससी में स्थायी सदस्यता की मांग कर रहा है और दुनिया की बदलती वास्तविकताओं के अनुरूप संयुक्त राष्ट्र में सुधारों की पुरजोर मांग कर रहा है।

‘भारत की विदेश नीति ने हासिल की सच्ची जीत’

UNSC के 5 स्थायी सदस्य ब्रिटेन, चीन, रूस, अमेरिका और फ्रांस हैं। रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने अपने भारतीय समकक्ष एस. जयशंकर से बातचीत के बाद कहा, ‘हम संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्य के रूप में शामिल होने के लिए भारत की उम्मीदवारी का समर्थन करते हैं।’ जयशंकर रूस की 5 दिवसीय यात्रा पर हैं। लावरोव ने कहा कि इस साल नई दिल्ली में जी20 शिखर सम्मेलन ‘भारत की विदेश नीति के लिए एक सच्ची जीत थी; यह बहुपक्षीय कूटनीति की जीत थी।

‘भारत की पहल का समर्थन करेगा रूस’

दरअसल, जी20 शिखर सम्मेलन में भारत यूक्रेन पर बिल्कुल अलग विचार वाले देशों को एक साथ लाने में कामयाब रहा था। जी20 घोषणा में यूक्रेन के खिलाफ युद्ध के लिए रूस की सीधी आलोचना से परहेज किया गया, इसलिए इसे मेजबान भारत के लिए एक महत्वपूर्ण कूटनीतिक जीत के रूप में देखा गया। लावरोव ने यह भी कहा कि रूस ‘मेक इन इंडिया’ पहल के तहत आधुनिक हथियारों का उत्पादन शुरू करने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि इस मामले में ठोस प्रगति हुई है. लावरोव ने कहा कि रूस नई दिल्ली की पहल को समझता है और इसका समर्थन करने के लिए तैयार है।

नवीनतम विश्व समाचार